पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

फतेहपुर...केंद्रीय मंत्री का अखिलेश पर हमला:साध्वी निरंजन ज्योति ने कहा- चुनाव में एक वर्ग विशेष के वोट के लिए जिन्ना का नाम ले रहे अखिलेश

फतेहपुर7 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
फतेहपुर में केंद्रीय मंत्री का अखिलेश पर हमला। - Money Bhaskar
फतेहपुर में केंद्रीय मंत्री का अखिलेश पर हमला।

फतेहपुर जिले की सांसद व केंद्रीय मंत्री साध्वी निरंजन ज्योति ने अपने संसदीय क्षेत्र के एक दिवसीय भ्रमण के दौरान पत्रकारों से बातचीत की। इस दौरान आगामी 2022 विधानसभा चुनाव को लेकर उन्होंने कहा कि इस बार यूपी में फिर भाजपा की पूर्ण बहुमत से सरकार बनेगी। जो लोग कभी मंदिर नहीं जाते थे, वो लोग आज कल चुनाव के कारण अयोध्या की परिक्रमा कर रहे हैं।

हताश हो चुके हैं अखिलेश यादव

वहीं ओमप्रकाश राजभर द्वारा जेल में बंद माफिया डॉन मुख्तार अंसारी से मुलाकात कर अपनी पार्टी में लाने की बात पर किए गए सवाल पर केंद्रीय मंत्री ने कहा कि राजभर किसी को लाएं, जैसे अखिलेश यादव चुनाव में जिन्ना को ले आए, तो राजभर माफिया को ले सकते हैं। इसमें कोई बड़ी बात नहीं है। अखिलेश यादव का सरदार वल्लभ भाई पटेल, पंडित जवाहर लाल नेहरू और राष्ट्रपिता महात्मा गांधी से जिन्ना की तुलना करना यह दर्शाता है कि आखिर वह कितना हताश हो चुके हैं।

80 करोड़ लोगों को मुफ्त में राशन दिया

केंद्रीय मंत्री साध्वी निरंजन ज्योति ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के काम के आगे विपक्ष टिक नहीं पा रहा है, क्योंकि अखिलेश ने गरीबों का नारा दिया, लेकिन हमारी सरकार ने गरीबों के लिए काम किया। आज चार बच्चे अपने मां-बाप को रोटी नहीं दे पा रहे हैं। वहीं प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कोरोना काल में 80 करोड़ लोगों को मुफ्त में अनाज, घर और सिलेंडर दिया। किसानों के खाता में पैसा दे रहे हैं। इसीलिए उन लोगों को रास्ता नहीं दिख रहा और बौखलाहट में इस तरह का बयान दे रहे हैं।

देश का मुसलमान समझदार है

केंद्रीय मंत्री ने कहा कि अखिलेश यादव जिन्ना का नाम लेकर विभाजनकरी मानसिकता रखते हैं, जबकि पीएम मोदी ‘सबका साथ सबका विकास’ सबके लिए काम कर रहे हैं। अखिलेश जिन्ना का नाम लेकर एक वर्ग विशेष का वोट 2022 के विधानसभा चुनाव में मिल जाए, इसलिए बयान दे रहे हैं। इस देश का समझदार मुसलमान भी जानता है कि हम भारत में सुरक्षित हैं, लेकिन पाकिस्तान में सुरक्षित नहीं हैं। आप इसका उदाहरण अफगानिस्तान में देख सकते हैं।