पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

फतेहपुर में बाल श्रम को लेकर चला चेकिंग अभियान:होटलों और ढाबों पर मारे गए छापे, कार्रवाई से मचा हड़कंप

फतेहपुरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक

यूपी के फतेहपुर जिले में होटल ढाबा में बाल श्रम रोकने को शासन के निर्देश पर चाइल्ड लाइन 1098 व एंटी ह्यूमन ट्रैफिकिंग यूनिट पुलिस टीम ने संयुक्त रूप से अभियान चलाया। अभियान के दौरान बाल श्रम करते कोई बच्चा नहीं मिला, लेकिन होटल ढाबा संचालकों में टीम को देखकर हड़कंप मचा रहा।

बाल श्रम उन्मूलन अभियान के तहत कई होटलों में मारे छापे।
बाल श्रम उन्मूलन अभियान के तहत कई होटलों में मारे छापे।

टीम ने होटल मालिकों को किया जागरूक
जिले में बाल श्रम उन्मूलन अभियान के तहत टीम ने चेकिंग कर बाल श्रम रोकने को जागरूक किया गया। होटल ढाबा संचालकों को काम करने वाले लोगों की नाम पता उम्र एक रजिस्टर में लिखकर रखने के साथ नजदीकी थाना में सूचना देने का निर्देश दिया गया।

टीम ने होटल मालिकों को किया जागरूक
टीम ने होटल मालिकों को किया जागरूक

थाना प्रभारी बोले-14 साल से कम उम्र के बच्चोंं से काम करवाने वालों के खिलाफ होगी कार्रवाई
एंटी ह्यूमन ट्रैफिकिंग यूनिट के थाना प्रभारी अनिल कुमार सिंह बताया कि बाल श्रम कानूनन अपराध है। 14 साल से कम बच्चों से बाल श्रम कराते मिलने पर 10 हजार रुपये का जुर्माना व तीन साल की सजा हो सकती है। 15 वर्ष से ऊपर जो लोग होटल ढाबा में काम करेंगे। उनका आधार रजिस्ट्रेशन व पंजीयन श्रम विभाग का पंजीकरण के स्वास्थ्य का प्रमाण पत्र जरूर ले और थाना में काम करने वाले का डिटेल भी दें।

होटल मालिकों से पूछताछ करती पुलिस।
होटल मालिकों से पूछताछ करती पुलिस।

चाइल्ड लाइन के जिला प्रभारी बोले- बच्चे देश के धरोहर
चाइल्ड लाइन के जिला प्रभारी अजय सिंह चौहान ने बताया कि टीम के साथ जिले के अनुपम होटल, गौर होटल, मोटू होटल, शुक्ला होटल, जीत होटल सहित एक दर्जन होटल ढाबा को चेक किया गया। उन्होंने कहा कि बच्चे देश का धरोहर है, जिनकी समुचित सुरक्षा पालन पोषण शिक्षा एवं विकास का दायित्व राष्ट्र व समाज का होता है।

खबरें और भी हैं...