पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

फतेहपुर में बाढ़ से फसलें हुईं जलमग्न:बाढ़ के पानी ने गंगा के तटवर्ती इलाकों में मचाई तबाही, सैकड़ों बीघे फसर हुई बर्बाद

फतेहपुर10 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
फतेहपुर में बाढ़ से फसलें हुईं जलमग्न। - Money Bhaskar
फतेहपुर में बाढ़ से फसलें हुईं जलमग्न।

पहाड़ों में बारिश और बांधों से छोड़े गए पानी से फतेहपुर जिले में किसानों की फसलें जलमग्न हो गई हैं। तराई क्षेत्र की फसलों में पानी भरने के बाद गांवों के करीब गंगा कटरी और पांडु नदी का पानी पहुंच गया है। पानी अगर इसी तरह बढ़ता रहा तो तटवर्ती गांवों में बाढ़ आ सकती है।

सब्जी और मसाले की खेती पर पड़ा असर

जहानाबाद विधानसभा के मलवां ब्लॉक के अभय पुर ग्रामसभा के कई गांव में फसलें पानी में डूब गई हैं। गंगा नदी और पांडू नदी के मध्य कटरी के किसान सब्जी और मसाले की खेती करते हैं। अधिकतर किसानों के पास खुद की जमीन कम है, जिससे ये लोग आशापुर, अभयपुर, गोपालपुरी और रानीपुर के साथ दूसरे जनपद के पूंजीपतियों द्वारा खरीदी गई गंगा कटरी की जमीन को ठेके पर लेकर खेती करते हैं। वहीं अब खेतों में पानी भर जाने से किसान परेशान हैं।

सब्जियों के बढ़ेंगे दाम

कानपुर की रामादेवी मंडी, फतेहपुर के बिंदकी, औंग, शिवराजपुर, चौड़ागरा सहित स्थानीय मंडियों में कटरी क्षेत्र की सब्जी की आपूर्ति होती है। गंगा नदी और पांडु नदी के बाढ़ के पानी से सैकड़ों बीघे सब्जी और मसाले की फसल नष्ट हो गई है। लोगों का कहना है कि अब सब्जी और मसाले के भाव में बढ़ोतरी होगी।

जिले के तीन ब्लॉक बाढ़ से प्रभावित

बाढ़ से प्रभावित मलवां, भिटौरा और खजुहा ब्लॉक के गांव जाड़े का पुरवा, बेनीखेड़ा, बेरीनारी, बिंदकी फार्म, अवसेरी खेड़ा, सदनहा, काली कुंडी, बड़ाखेड़ा, नया खेड़ा, मल्लूखेड़ा, दरियापुर बांगर, दरियापुर कटरी सहित कई गांव बाढ़ की चपेट में हैं। इन गांवों के खेतों में बाढ़ का पानी भरने से अदरक, सौंफ, पुदीना, मिर्च, मूली, पालक, बैंगन, कुंदरू, परवल, तोरई, लौकी, कद्दू, कुर्ती, लोबिया, गाजर, गोभी और फूल की खेती को नुकसान हुआ है।

बाढ़ चौकियों को अलर्ट रहने का निर्देश

गंगा में बढ़े जलस्तर को लेकर डीएम अपूर्वा दुबे ने तीनों तहसील के एसडीएम को गंगा कटरी क्षेत्र का भ्रमण कर स्थिति का जायजा लेने के साथ निगरानी रखने का निर्देश दिया है। जिस पर तीनों तहसील के एसडीएम ने अपने-अपने क्षेत्र का भ्रमण किया। एसडीएम सदर अवधेश निगम ने गंगा भिटौरा घाट पर एहतियात गोताखोर को तैनात किया है। डीएम अपूर्वा दुबे ने बताया कि गंगा का जलस्तर लगातार बढ़ रहा है, लेकिन अभी खतरे के निशान के नीचे है। अधिकारियों को गंगा कटरी के गांवों का जायजा लेने को कहा है। बाढ़ चौकियों को अलर्ट रहने का निर्देश दिया गया है।

खबरें और भी हैं...