पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

सेना भर्ती की तैयारी कर रहे युवक ने दी जान:पिता बोला- अग्‍निपथ स्कीम की वजह से बेटे ने दी जान, 10 साल से कर रहा था तैयारी

फतेहपुर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

फतेहपुर में एक युवक ने फांसी लगाकर जान दी। युवक 10 साल से सेना भर्ती की तैयारी कर रहा था। अग्निपथ योजना के बाद से वह अवसाद में था। आज सुबह घर से कुछ दूर जंगल में फांसी लगाकर जान दे दी। फिलहाल, पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है।

मामला कल्याणपुर के हरदौलपुर गांव का है। मृतक पिता छेदालाल पटेल ने कहा,"विकास (22 वर्षीय) शुक्रवार शाम को घर से कहकर निकला था कि अग्निपथ स्कीम आने के बाद से उसका मन नहीं लग रहा है। मन को शांत करने के लिए दोस्त राजेश के घर जा हूं। देर रात तक जब वह नहीं लौटा, तो हमने उसके दोस्त को फोन किया। उसने बताया कि विकास उसके घर से जा चुका है। फिर खोजबीन शुरू की, लेकिन उसका पता नहीं चला।"

यह फोटो मृतक विकास के पिता की है। गांव के लोगों ने उनको सांत्वना दी। लेकिन, बेटे की मौत ने पिता को तोड़ दिया।
यह फोटो मृतक विकास के पिता की है। गांव के लोगों ने उनको सांत्वना दी। लेकिन, बेटे की मौत ने पिता को तोड़ दिया।

घर से 400 मीटर जंगल में लटक कर दी जान
पिता ने कहा, "आज सुबह गांव के कुछ लोगों ने सूचना दी कि विकास ने गांव के बाहर जंगल में पेड़ से लटक कर जान दे दी। घर से जंगल की दूरी 400 मीटर है। सूचना मिलने पर जंगल में पहुंचा। पुलिस को सूचना दी।" मौके पर पहुंची पुलिस ने शव को फंदे से उतरवाया। छेदालाल किसान हैं। उनके दो बेटे थे। विकास और विक्रम। विक्रम पटेल की शादी हो चुकी है।

यह मृतक विकास की फाइल फोटो है। वह 10 साल से सेना भर्ती की तैयारी कर रहा था।
यह मृतक विकास की फाइल फोटो है। वह 10 साल से सेना भर्ती की तैयारी कर रहा था।

पिता बोला- 10 साल से कर रहा था तैयारी
पिता छेदालाल पटेल ने कहा, "बेटा 2012 साल से सेना भर्ती की तैयारी कर रहा था। वह इसके लिए जीतोड़ मेहनत करता था। अग्निपथ योजना के तहत सेना में चार साल की नौकरी मिलने से तनाव में रहने लगा था। वह कहता था कि चार साल के लिए सेना भर्ती की तैयारी नहीं कर रहा था।" छेदालाल पटेल ने कहा,"विकास 2019 की रैली भर्ती में हिस्सा लिया था, लेकिन वह फिजिकल टेस्ट में फेल हो गया था।

यह फोटो विकास के घर की है। उसकी मौत की खबर में बड़ी संख्या में ग्रामीण घर के बाहर जुट गए। किसी को यकीन नहीं हो रहा था कि वह इतना बड़ा कदम उठा लेगा।
यह फोटो विकास के घर की है। उसकी मौत की खबर में बड़ी संख्या में ग्रामीण घर के बाहर जुट गए। किसी को यकीन नहीं हो रहा था कि वह इतना बड़ा कदम उठा लेगा।

दोस्त बोला- कहता था कि चार साल की नौकरी नहीं करूंगा
मृतक का दोस्त राजेश ने कहा, "मैं और विकास साथ-साथ सेना भर्ती के तैयारी कर रहे थे। अग्निपथ योजना लागू होने के बाद से वह काफी निराश था। कहता था कि चार साल के लिए सेना में नहीं जाऊंगा।"

थाना प्रभारी शेर सिंह राजपूत ने बताया कि मृतक विकास के पिता ने तहरीर दी है कि वह सेना भर्ती की तैयारी कर रहा था। सेना भर्ती में कुछ बदलाव के कारण तनाव के चल रहा था।

खबरें और भी हैं...