पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

फर्रुखाबाद जेल में हुई हिंसा में घायल बंदी की मौत:साथी की मौत से गुस्साए कैदियों ने लगाई थी आग, पथराव में 30 सिपाही घायल

फर्रुखाबाद6 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

फर्रुखाबाद जिला जेल में हुई हिंसा में घायल बंदी ने रविवार को दम तोड़ दिया है। थाना राजेपुर क्षेत्र के ग्राम जैनापुर निवासी शिवम की हिंसा के दौरान पेट में चोट लगी थी। जिसमें वह गंभीर रूप से जख्मी हो गया था। उसे लोहिया अस्पताल में भर्ती किया गया था। उसकी हालत गंभीर होने पर उसे सैफई मेडिकल कॉलेज रेफर कर दिया गया था, लेकिन उसकी सैफई ले जाते समय मौत हो गई। हालांकि, मौत से पहले उसने जिला जेल के जेलर, दो डिप्टी जेलर पर गोली मारने का आरोप लगाया था।

मृतक बंदी शिवम चोरी के मामले में बंद था। उसके ऊपर शहर कोतवाली पुलिस ने गैंगस्टर की कार्रवाई की थी। मृतक अपने परिवार का अकेला चिराग था। उसकी एक बहन है। जबकि मां की बचपन में मौत हो गयी थी। घर पर पिता मुन्ना राठौर अकेले रहते है। उन्हें भी लकवा मार गया है। एसपी-डीएम सुबह से अभी जेल में ही डटे है।

पुलिस अधीक्षक अशोक कुमार मीणा ने बताया कि बंदी शिवम की मौत हो गई है। उसका शव वापस मंगाया गया है। जबकि DIG जेल वीपी त्रिपाठी रविवार शाम लगभग 4 बजे जिला जेल फतेहगढ़ पहुंचे। उन्होंने बताया कि वह पहले पूरे मामले की तफ्तीश करेंगे। उसके बाद जो भी दोषी होगा उसके खिलाफ कार्रवाई की जाएगी।

बवाल को शांत कराने के लिए फोर्स मौके पर पहुंची।
बवाल को शांत कराने के लिए फोर्स मौके पर पहुंची।

इलाज के दौरान हुई थी कैदी की मौत
फतेहगढ़ सेंट्रल जेल के वरिष्ठ अधीक्षक प्रमोद शुक्ला ने बताया कि फर्रुखाबाद के मेरापुर थाना क्षेत्र निवासी संदीप हत्या के मामले में जिला जेल में बंद था। उसे कुछ दिन पहले डेंगू हुआ था। हालत बिगड़ने पर उसे सैफई रेफर किया गया था, जहां शनिवार शाम उसकी इलाज के दौरान मौत हो गई। सुबह 8 बजे नाश्ते के समय जेल के कैदियों को इसकी जानकारी हुई। जिसके बाद कैदियों ने संगठित रूप से उपद्रव शुरू कर दिया।

जेल अधिकारियों पर हमला किया, डिप्टी जेलर को पीटा

कैदियों ने अधिकारियों पर हीलाहवाली का आरोप लगाते हुए जेल अधिकारियों पर हमला कर दिया। जिसमें डिप्टी जेलर को पीटा भी गया। डिप्टी जेलर घायल हुए हैं। यही नहीं कैदियों ने जेल में आगजनी भी की है। कैदियों ने जेल में तोड़फोड़ कर कब्जा कर लिया। डीएम और एसपी भी पहुंचे हैं, लेकिन मेन गेट पर कब्जा होने के कारण पुलिस अंदर नहीं जा पा रही है। कैदी लगातार पुलिस पर पथराव कर रहे हैं। पुलिस भी बचाव में फायरिंग कर रही है। जेल में बवाल के दौरान हुए पथराव से थाना मऊदरवाजा का सिपाही जितेंद्र कुमार भी घायल हो गया है।

कैदियों का आरोप है कि डेंगू पीड़ित कैदी संदीप के इलाज में लापरवाही बरती गई है। संदीप को डेंगू था। उसे समय से इलाज नहीं मिला। इसलिए उसकी मौत हो गई। दिवाली के दिन सही भोजन न दिए जाने का भी कैदियों ने आरोप लगाया है। उनका कहना है कि दिवाली पर अहाते न खोले जाने से कैदी अन्य लोगों से मिल नहीं सके थे।

जेल की छतों से हालात पर काबू करने की कोशिश करते पुलिसकर्मी।
जेल की छतों से हालात पर काबू करने की कोशिश करते पुलिसकर्मी।

हिंसा की जांच होगी
पुलिस अधीक्षक अशोक मीणा ने बताया कि जेल में हुई हिंसा के दौरान 30 सिपाही घायल हुए हैं। सबसे ज्यादा बवाल बैरक नंबर 9 में हुआ है। कैदियों ने मेन गेट से लेकर जेल के अंदर तक अलग अलग हिस्सों में आगजनी की है। डिप्टी जेलर शैलेश पंकज को कैदियों ने पीटा है। जिसमें वह घायल हुए हैं। जेल अधीक्षक के ऊपर कैदियों को गोली मारने का भी आरोप लगा है। बताया जा रहा है कि उनके द्वारा फायरिंग में तीन कैदी घायल हुए हैं। पुलिस अधीक्षक अशोक मीणा ने बताया कि यह जांच का विषय है। अभी कैदी बैरक में हैं। उन्होंने बताया कि जेल की स्थिति पर काबू कर लिया गया है।

कैसे शुरू हुआ बवाल
08 बजे: बैरक नंबर 9 में नाश्ता बांटा जा रहा था। तभी मृतक के रिश्तेदार संजीव यादव बवाल करने लगा। उसने जेलकर्मियों पर हमला बोल दिया गया। जिसमें डिप्टी जेलर घायल हुए।
8.30 बजे: सभी थानों की फोर्स और सेंट्रल जेल से सुरक्षाकर्मी मौके पर भेजे गए। कैदियों ने बैरक के अंदर से ही पथराव और सरिया आदि फेंकना शुरू कर दिया। बैरक नंबर 2 में भी काफी बवाल हुआ है।
8.45 बजे: कैदी मेन गेट पर आ गए वहां आगजनी की। अंदर जगह-जगह आगजनी की गई। लगभग 3 घंटे तक कैदियों ने जेल में उत्पात मचाए रखा है। इस समय स्थिति काबू में है।