पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

फर्रुखाबाद पुलिस पर जबरन अंतिम संस्कार कराने का आरोप:गांव में PAC तैनात, एक दिन पहले युवक की पीट-पीटकर की गई थी हत्या

फर्रुखाबाद2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

फर्रुखाबाद के मेरापुर थाना क्षेत्र के ब्रह्मपुरी गांव में युवक को पकड़ने गई पुलिस ने उसकी पीट-पीटकर हत्या कर दी थी। मामले में परिजन दोषी पुलिसकर्मियों पर FIR की मांग कर रहे थे। शनिवार शाम को 4 नामजद सहित 10 पुलिसकर्मियों पर हत्या का मुकदमा दर्ज किया गया था। इसके बाद शव का पोस्टमार्टम कराया गया।

वहीं पोस्टमार्टम के बाद परिजनों ने रविवार को अंतिम संस्कार करने की बात कही, लेकिन पुलिस ने रात 8:30 बजे ही जबरदस्ती गांव में अंतिम संस्कार करा दिया। मृतक के भाई उदल ने पुलिस वालों पर जबरदस्ती अंतिम संस्कार कराने का आरोप लगाया है।

बता दें, कि शनिवार शाम को मृतक गौतम सिंह का पोस्टमार्टम किया गया। परिजनों ने पहले शव लेने से इनकार कर दिया। फतेहगढ़ कोतवाल और CO सिटी के समझाने पर परिजन शव को लेकर गांव पहुंचे। उन्होंने रात का हवाला देकर रविवार की सुबह अंतिम संस्कार करने की बात कही, लेकिन वहां मौजूद पुलिसकर्मी ने देर रात अंतिम संस्कार के लिए परिजनों पर दबाव बनाना शुरू कर दिया।

तनाव को देखते हुए गांव में पीएसी की तैनाती की गई है।
तनाव को देखते हुए गांव में पीएसी की तैनाती की गई है।

रात 8:30 बजे के करीब गांव के ही श्मशान घाट पर मृतक का अंतिम संस्कार किया गया। मृतक के भाई ने जबरदस्ती अंतिम संस्कार कराने का आरोप लगाया है। उसका कहना है हिंदू रीति रिवाज में रात के समय अंतिम संस्कार करना वर्जित माना जाता है। ऐसे में उसने अंतिम संस्कार करने के लिए मना किया था, लेकिन पुलिस नहीं मानी और रात को भी अंतिम संस्कार करा दिया।

4 घरों में तोड़फोड़ करने का है आरोप
ब्रह्मपुरी गांव में दबिश देने गई पुलिस ने शुक्रवार की रात गौतम का दरवाजा तोड़ दिया था। घर में रखा खाना इधर-उधर फेंक दिया था। पड़ोसी सर्वेश का गेट और चारपाई तोड़ डाली थी। सत्यवीर के घर में घुसकर तोड़फोड़ की। इस दौरान घर में बच्चे और महिलाएं भी थीं। गिरीश चंद्र के घर में घुसी पुलिस ने कमरे में रखे बक्से तोड़ दिए। सामान उठाकर फेंक दिया। पत्नी मीरा के विरोध करने पर धमकी दी थी।

अपहरण सहित शराब के 3 मुकदमे दर्ज
गांव ब्रह्मपुरी निवासी गौतम और सोना के खिलाफ मऊ दरवाजा थाने में चोरी का मुकदमा दर्ज है। मेरापुर थाने में अपहरण सहित शराब के तीन मुकदमे दर्ज हैं। पुलिस अवैध शराब बनाने वाले लोगों की सूची बनाकर कार्रवाई कर रही थी। जबकि वहां कई लोग शराब का धंधा पहले ही छोड़ चुके हैं।

गांव में पीएसी है तैनात
शनिवार को गांव में दोपहर के समय एक ट्रक पीएसी पहुंच गई थी। वही शव के अंतिम संस्कार न की सूचना पर गांव में एक और ट्रक पीएसी भेजी गई। अब गांव में पुलिस कर्मियों के साथ दो ट्रक पीएसी तैनात है।

गांव में भ्रमण करते पुलिसकर्मी।
गांव में भ्रमण करते पुलिसकर्मी।

पुलिसकर्मियों पर नहीं हुई कार्रवाई
मृतक के भाई की तहरीर पर पुलिस ने मेरापुर थाना अध्यक्ष अचरा चौकी इंचार्ज सहित दो नामजद पुलिसकर्मियों सहित छह अज्ञात पर पीट पीट कर हत्या करने की रिपोर्ट दर्ज की है, लेकिन रविवार की सुबह तक नामजद पुलिसकर्मियों को निलंबन नहीं किया गया।

जानें क्या बोले जिम्मेदार
एसपी अशोक कुमार मीणा ने बताया मृतक की मौत के मामले में चार नामजद, छह अज्ञात पुलिसकर्मियों पर रिपोर्ट दर्ज कर ली गई है। मामले की जांच कायमगंज कोतवाली प्रभारी को सौंपी गई है। जांच के बाद ही कुछ कहा जा सकता है।