पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

अमृतपुर में अतिक्रमण हटाने के दौरान हंगामा:ग्रामीण बोले- रसूखदारों पर मेहरबानी, रुपये लेकर पैमाइश की कम, रोका गया अभियान

अमृतपुर, फर्रुखाबाद2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
अमृतपुर में अतिक्रमण को बुलडोजर से ध्वस्त करा दिया गया। - Money Bhaskar
अमृतपुर में अतिक्रमण को बुलडोजर से ध्वस्त करा दिया गया।

अमृतपुर में अतिक्रमण हटाओ अभियान के दौरान पक्षपात का आरोप लगाकर ग्रामीणों ने हंगामा किया। आरोप लगाया कि रसूखदारों के घर के सामने पैमाइश में फीता छोटा रखा गया। वहीं बुलडोजर देख कुछ दुकानदार खुद ही कब्जा हटाने लगे। अभियान के दौरान 20 दुकानों और मकानों को ध्वस्त किया गया।

पीडब्ल्यूडी के जेई दो बुलडोजर लेकर पहुंचे तिराहा

शुक्रवार दिन में 11 बजे पीडब्लूडी के अवर अभियंता अंकित कुमार दो बुलडोजर लेकर कस्बा तिराहे पर पंहुचे। पूर्व प्रधान सुशील वर्मा की दुकानों से अतिक्रमण हटाना शुरू किया गया। बड़ी दुकान होने के कारण कुछ हिस्सा क्षतिग्रस्त कर छोड़ दिया गया। इसके बाद ग्राम तुसौर निवासी शिव बहादुर की छह दुकान और मकान को जमींदोज कर दिया गया। ग्राम तुसौर निवासी गोविन्द, सुधीर और गौरी शंकर की चार दुकानें तोड़ी गयीं। इसी गाँव के विनीत की भी दुकान ध्वस्त कराई गई। लेखपाल श्याम बाबू ने सड़क के बीच से 86 फीट की पैमाइश की थी। व्यापार मंडल अध्यक्ष संजय गुप्ता की दो दुकानें कस्बा तिराहे पर बनीं हैं। वहां पर 72 फीट पैमाइश की गई।

अमृपुर में अतिक्रमण ध्वस्त करता बुलडोजर।
अमृपुर में अतिक्रमण ध्वस्त करता बुलडोजर।

एक तरफ 86 तो दूसरी ओर 72 फीट की पैमाइश

पक्षपात का आरोप लगाते हुए राजेपुर में विवाद हो गया। ग्रामीणों ने कहा कि एक तरफ 86 फीट और दूसरी तरफ रसूखदार लोगों की 72 फीट की पैमाइश की गयी। चौराहे पर नानजेड़े की भूमि की दुकाने भी अतिक्रमण की जद में बतायी जा रही हैं। लेकिन उन्हें नहीं तोड़ा गया। लेखपाल पर रुपये लेकर पैमाइश कम करने का आरोप लगाया। हंगामे के बाद अभियान बंद कर दिया गया।

लगभग दो दर्जन मकान और दुकान ध्वस्त किये गये। मौके पर बवाल होने पर अधिकारी खिसक गए। अतिक्रमण हटाने पर उप जिलाधिकारी अमृतपुर पदम सिंह ने रोक लगा दी। पीडब्लूडी जेई अंकित कुमार ने बताया कि अतिक्रमण रोका गया है। जल्दी ही दोबारा कार्रवाई शुरू होगी।

खबरें और भी हैं...