पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

एटा मेडिकल कॉलेज में अव्यवस्था का आलम:मरीजों को नही मिल रहीं दवाएं, कुत्ते काटने की इंजेक्शन भी नहीं उपलब्ध, जिम्मेदार बने अनजान

एटाएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक

एटा जनपद के वीरांगना अवंतीबाई लोधी स्वशाषी चिकित्सा महाविद्यालय में मरीजों को आवश्यक दवाएं नहीं मिल रही हैं। कुत्ते की इंजेक्शन भी अस्पताल में उपलब्ध नहीं है। जब भी ऐसा कोई मरीज आता है, तो सिरिंज भी बाहर से मंगवानी पड़ती है। जो सिरिंज 2 रुपये की आती है। उसके 10 रुपये वसूले जा रहे हैं।

सरकारी अस्पताल में नहीं मिल रहीं जरूरी दवाएं
यह सिरिंज पिछले 20 दिनों से भी अधिक समय से मेडिकल कॉलेज में उपलब्ध नहीं हो पा रहीं हैं। सरकार की नीतियों का एटा वीरांगना अवंती बाई लोधी स्वशासी राज्य चिकित्सालय महाविद्यालय में पलीता लगाया जा रहा है। मेडिकल कॉलेज में डॉक्टर भी समय से नहीं पहुंचते हैं, जिससे मरीज इधर-उधर चक्कर लगाते रहते हैं। अब तो मेडिकल कॉलेज में शर्दी, जुकाम, बुखार, और अन्य बीमारियों की दवाएं भी नहीं मिल पा रही है।

सरकारी अस्पतालों में नहीं मिल रही जरूरी दवाएं और इंजेक्शन
सरकारी अस्पतालों में नहीं मिल रही जरूरी दवाएं और इंजेक्शन

मरीज बोले, दवाओं के लिए भेजा जाता है बाहर
कुत्ता काटने इंजेक्शन लगाने के लिए वीरांगना अवंतीबाई लोधी जिला चिकित्सालय एटा में सिरिंज उपलब्ध नहीं। कुत्ते से काटने वाले मरीज राजेश ने बताया कि हम यहां वीरांगना अवंती बाई लोधी जिला चिकित्सालय एटा में कुत्ता काटने के इंजेक्शन लगवाने आए हैं। लेकिन उनको सिरिंज बाहर मेडिकल से मंगाने के लिए भेजा जा रहा है। मरीजों ने पूछा हमको बाहर क्यों भेजा जा रहा है? दूसरे मरीज मनीष ने बताया कि उनसे कहा गया कि सिरिंज यहां उपलब्ध नहीं है। आप बाहर मेडिकल स्टोर से सिरिंज लेकर आइए और कुत्ते काटने की इंजेक्शन तभी आपके लगेगा। इस बात की जानकारी सीएमएस एटा डॉ. आर के अग्रवाल को दी गई तो उन्होंने बताया कि यह मामला मेरे संज्ञान में आज अभी ही आया है कि कुत्ता काटने की सिरिंज और कुछ दवाएं यहां नहीं मिल रही तो मैंने आज यहां निर्देश दे दिए हैं सभी चीजें उपलब्ध कराई जाएंगी।

खबरें और भी हैं...