पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

देवरिया में 'सांसद खेल स्पर्धा' का हुआ शुभारंभ:सांसद ने दौड़ प्रतियोगिता को दिखाई हरी झंडी, बोले- गांव-गांव में निखरेंगी प्रतिभाएं

देवरिया6 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
देवरिया में 'सांसद खेल स्पर्धा' का हुआ शुभारंभ। - Money Bhaskar
देवरिया में 'सांसद खेल स्पर्धा' का हुआ शुभारंभ।

देवरिया में आज ‘सांसद खेल स्पर्धा’ की शुरुआत प्रतीकात्मक रूप में भव्य आयोजनों के साथ हुई। राजकीय इंटर कॉलेज में प्रतियोगिता का शुभारंभ सांसद डॉ. रमापति राम त्रिपाठी, सदर विधायक डॉ. सत्य प्रकाश मणि त्रिपाठी सहित अन्य जनप्रतिनिधियों द्वारा किया गया। सांसद ने हरी झंडी दिखाकर दौड़ प्रतियोगिता का शुभारंभ किया।

पीएम मोदी ने खेल को गांव-गांव तक पहुंचाया

कार्यक्रम के मुख्य अतिथि सांसद डॉ. रमापति राम त्रिपाठी ने कहा कि आज हम बड़े गर्व से कह सकते हैं कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का लक्ष्य जहां भारत को सशक्त, सम्पन्न और शक्तिशाली भारत बनाना है। वहीं भारत को खेल प्रतिस्पर्धा में विश्व का सर्वश्रेष्ठ देश बनाने का भी लक्ष्य है। इसके अन्तर्गत ही उन्होंने खेलो इंडिया-फिट इंडिया का आवाह्न किया हैं। उन्होंने खेलो इंडिया का केवल आवाह्न ही नहीं किया, बल्कि खेल को गांव-गांव तक पहुंचाने पर कार्य किया है।

मनरेगा से खेल मैदान बनेगा

सांसद डॉ. रमापति राम त्रिपाठी ने कहा कि गांव में जो प्रतिभाएं हैं, वो प्रोत्साहन के आभाव में प्रदर्शन नहीं कर पाती हैं। उन्हें उचित सुविधा नहीं मिलती है। इसके लिए सरकार ने नीतियां बनाई और प्रदेश के मुख्यमंत्री ने उसे कार्य रूप में परिणित करने का काम किया है। इस जनपद में उसी अभियान के अन्तर्गत गांव में खेल मैदान विकसित किए जा रहे हैं। इसे मनरेगा से जोड़ा गया है। मनरेगा से खेल मैदान बनेगा, ओपेन जिम बनेगी और उससे निश्चित रूप से खेल को प्रोत्साहन मिलेगा। गांव-गांव के बच्चे उसमें जाना शुरू करेंगे। शिक्षा के साथ खेल में भी रुचि लेंगे। हमारे बच्चे देश, प्रदेश और जिले का नाम रोशन करेंगे।

27 नवंबर को होगा प्रतियोगिता का समापन

सांसद डॉ. रमापति राम त्रिपाठी ने कहा कि हमारी नीति है कि खेल को गांव-गांव तक पहुंचाना है। खेल के प्रति प्रोत्साहित करना है। देश में खेल के प्रतिस्पर्धा में श्रेष्ठता दिलाना है, लेकिन उसके लिए जरूरी है नियत की, जो हमारे सरकार के पास है। इस खेल प्रतियोगिता का समापन 27 नवंबर को स्व. रविन्द्र किशोर शाही स्टेडियम में होगा। उन्होंने कहा कि इस कार्यक्रम को औपचारिक न बनाएं। प्रमाणिक बनाने के लिए इसकी चर्चा गांव-गांव में करें और प्रोत्साहित करें।

खबरें और भी हैं...