पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

देवरिया में डीएम ने खाद्य विभाग अधिकारियों के साथ बैठक:की गई कामों की समीक्षा, कहा- मिलावट के खिलाफ कार्रवाई में लाएं तेजी

देवरिया2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
धन्वन्तरी सभागार में खाद्य अपमिश्रण और जनस्वास्थ्य पर जिम्मेदारों के साथ मीटिंग करते जिलाधिकारी - Money Bhaskar
धन्वन्तरी सभागार में खाद्य अपमिश्रण और जनस्वास्थ्य पर जिम्मेदारों के साथ मीटिंग करते जिलाधिकारी

देवरिया में आमजन के स्वास्थ्य की सुरक्षा और मिलावटी खाद्य पदार्थों के बिक्री रोकने के लिए डीएम की अध्यक्षता में खाद्य सुरक्षा एवं औषधि प्रसाधन विभाग की मासिक समीक्षा बैठक सीएमओ कार्यालय के स्थित धनवंतरी सभागार में हुई। बैठक में जिलाधिकारी जिलाधिकारी ने खाद्य प्रवर्तन की गतिविधियों को तेज करने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि जिले में नकली और मिलावटी खाद्य पदार्थ बेचने वालों के विरुद्ध सख्त कार्रवाई की जाए।

मिलावटी पदार्थों से सेहत और रुपयों की बर्बादी होती है
जिलाधिकारी ने बैठक के दौरान कहा कि मिलावटी खाद्य पदार्थों की बिक्री,भंडारण कानूनन अपराध के साथ-साथ आमजन मानस के जीवन व स्वास्थ्य से खुला खिलवाड़ है। इससे जहां जन स्वास्थ्य प्रभावित होता है। वहीं बीमारियों से ग्रसित होकर लोगों की गाढ़ी कमाई दवा और इलाज में बर्बाद होती है। मिलावट और जमाखोरी की मंशा रखने वाले व्यापारी अपने इस आदत से बाज आएं। अगर व्यापारी ऐसा करते पाए जाएंगे तो उनके विरुद्ध नियमित अभियान चलाया जायेगा। जिनके यहां भी गड़बड़ी पाई जाएगी उनके विरुद्ध कानूनी प्राविधानों के तहत सुसंगत धाराओं के तहत कार्रवाई की जायेगी। डीएम ने कहा कि दूध और दूध से बने पदार्थों में अपमिश्रण पर प्रभावी रोकथाम तथा अन्य पदार्थों को आम जन मानस तक शुद्ध और सुरक्षित रूप में उपलब्ध कराया जाए।

क्या कहा खाद्य उपायुक्त ने
उपायुक्त खाद्य सुरक्षा एवं औषधि प्रसाधन विभाग ने बताया कि वित्तीय वर्ष 2022-23 में दूध के 10 सैंपल लिए गए जिसमें जांच के बाद 5 मुकदमे दायर किये गए और 10 हजार रुपए का जुर्माना वसूला गया। दुग्ध निर्मित खाद्य पदार्थों के 11 नमूने लिए गए और 8 मुकदमे किये गए तथा 1 लाख 37 हजार रुपये का जुर्माना वसूला गया। इसी प्रकार अन्य खाद्य पदार्थों के 6 नमूने लिए गए और 5 मामलों में मुकदमा किया गया और 4 लाख 84 हजार रुपए का जुर्माना लगाया गया।

जिले में 5 बार फूड सेफ्टी वैन का हो चुका है दौरा
फूड सेफ्टी वैन अब तक में 5 बार भ्रमण कर चुकी है।जिसके माध्यम से बेचने वालों और खरीदने वालों द्वारा उपलब्ध कराए गए तेल, दाल, दूध, मिठाई और अन्य खाद्य को मौके पर ही जांच कर रिपोर्ट बताया गया। अब तक कुल 130 खाद्य व्यापारियों द्वारा प्रयोग किये जा रहे तेल की जांच की गई। जिसमें से 2 खाद्य व्यापारियों के टी पीएम की सीमा 25 पायी गई।जिसको मौके पर ही नष्ट कराया गया।

सहायक आयुक्त ने बताया
सहायक आयुक्त खाद्य आर सी पांडे ने खाद्य एवं औषधि ने कहा कि जिलाधिकारी महोदय के निर्देशानुसार खाद्य एवं औषधि विभाग के गतिविधियों को और प्रभावी तरीके से जन-जन तक पहुंचाया जायेगा।

बैठक में ये रहे मौजूद
बैठक में सीडीओ रवींद्र कुमार, अपर जिलाधिकारी प्रशासन कुँवर पंकज, सीएमओ डॉ आलोक पांडेय, डीएसओ विनय कुमार, मुख्य पशु चिकित्सा अधिकारी पीएन सिंह, मत्स्य अधिकारी नंद किशोर, जिला कृषि अधिकारी मो0 मुजम्मिल, जिला विद्यालय निरीक्षक देवेन्द्र गुप्ता, डीपीओ कृष्णकान्त राय, ईओ रोहित सिंह, डीपीआरओ अविनाश सिंह, सचिव मण्डी, जिला आबकारी अधिकारी सहित विभिन्न अधिकारी एवं व्यापारी प्रतिनिधि मौजूद रहे।