पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

देवरिया में बंद होने के कगार पर मॉडर्न स्कूल:केवल एक शिक्षक और शिक्षामित्र के भरोसे 5 क्लास, पहले 200 बच्चे थे; अब 100 से भी कम बचे

देवरियाएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
none - Money Bhaskar
none

देवरिया जिले के सदर ब्लॉक में पार्वती पुर ग्राम सभा में प्रदेश का पहला इंग्लिश मीडियम स्कूल है। शिक्षा अधिकारियों और जिले के जिम्मेदार अधिकारियों की उदासीनता से यह स्कूल बंद होने के कगार पर है। एक तरफ प्रदेश सरकार जोर-शोर से स्कूल चलो अभियान चला रही है, ताकि अधिकाधिक बच्चों का परिषदीय स्कूलों में दाखिला हो। वहीं बेहतरीन शिक्षा और खूबसूरत वातावरण के लिए बेहद चर्चित इस विद्यालय में शिक्षकों की कमी से छात्र दूसरे स्कूलों का रुख कर रहे हैं।

नाम कटवाना मजबूरी
अभिभावक जितेंद्र ने बताया, ऐसा सरकारी स्कूल हमने नहीं देखा था। बच्चों को अच्छी शिक्षा मिले, इसके लिए प्रिंसिपल बहुत जतन करते हैं, लेकिन अकेले शिक्षक होने से पूरी मेहनत के बाद भी पूरे स्कूल के बच्चों पर ध्यान देना बड़ी चुनौती है। अभिभावक अजिता नंद बताते हैं कि यहां प्रधानाचार्य बहुत मेहनत करते हैं। मेरी बच्ची दूसरी कक्षा में पढ़ती थी। शिक्षकों की कमी के कारण मैंने नाम कटवा कर पब्लिक स्कूल में लिखवा दिया है।

आदर्श प्राथमिक विद्यालय पार्वतीपुर।
आदर्श प्राथमिक विद्यालय पार्वतीपुर।

कक्षाएं हैं 5, एक शिक्षक और एक शिक्षामित्र के भरोसे
सदर ब्लॉक के प्राथमिक विद्यालय पार्वतीपुर इंग्लिश मीडियम में एक हेड मास्टर और एक शिक्षामित्र के भरोसे 5 कक्षाएं हैं। हेड मास्टर के जिम्मे अनेक कार्यालय संबंधी और प्रशासनिक कार्य भी होते हैं। ऐसे में जहां पहले छात्र संख्या 200 से अधिक थी, वहीं अब वह संख्या 100 से कम हो गई है।

प्रदेश का पहला इंग्लिश मीडियम स्कूल शिक्षा अधिकारियों के उदासीनता से बंद होने के कगार पर है। आदर्श प्राथमिक विद्यालय पार्वती पुर के हेड मास्टर शत्रुघ्न मणि त्रिपाठी ने बताया, वर्ष 2013 में यह विद्यालय इंग्लिश मीडियम की पढ़ाई के लिए प्रदेश में पहला चयनित विद्यालय है।

शिक्षकों की कमी के संबंध में खंड शिक्षा अधिकारी, जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी और पूर्व जिलाधिकारियों को अवगत करा चुके हैं, लेकिन शिक्षकों की तैनाती नहीं हो सकी। शिक्षकों की तैनाती नहीं होने से अभिभावक बच्चों के नाम कटवाकर दूसरे विद्यालयों का रुख कर रहे हैं।

एक शिक्षक और एक शिक्षामित्र के भरोसे विद्यालय चल रहा है।
एक शिक्षक और एक शिक्षामित्र के भरोसे विद्यालय चल रहा है।

विद्यालय की व्यवस्था और साज सज्जा में कॉन्वेंट स्कूल पीछे
आदर्श प्राथमिक विद्यालय पार्वतीपुर की साज सज्जा देखकर सहसा विश्वास नहीं होता है कि यह परिषदीय विद्यालय है। हेड मास्टर ने अपनी तनख्वाह से महंगे सजावटी पौधे लगाए हैं। इससे विद्यालय का वातावरण अत्यंत आकर्षक और दर्शनीय है।

क्या कहते हैं जिम्मेदार
एडीएम प्रशासन कुंवर पंकज ने बताया, हेड मास्टर द्वारा शिक्षकों की कमी बताई गई है। इसकी जानकारी बीएसए को भी है। शासन की नीति के अनुरूप मई-जून महीने में समायोजन होना है।

खबरें और भी हैं...