पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

चित्रकूट में गंगा समिति की बैठक:59 गांवों का गंदा पानी गिरता है मंदाकिनी में, इसे रोकने के लिए DM ने दिए निर्देश

चित्रकूट2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

चित्रकूट जिलाधिकारी शुभ्रान्त कुमार शुक्ल की अध्यक्षता में जिला गंगा समिति की बैठक जिला कलेक्ट्रेट के सभागार में संपन्न हुई। डीएम ने कहा, कौन-कौन से ऐसे नाले हैं, जो मंदाकिनी नदी में गिरते हैं, इनको रोकने के लिए क्या उपाय किया जा रहा है। इसको लेकर डीएम ने निर्देश दिए। डीएम ने कहा, लोकल एजेंडे के तहत साफ-सफाई, नाली आदि की व्यवस्था भी की जा सकती है।

59 गांव बसे हैं मंदाकिनी के किनारे
मंदाकिनी नदी के किनारे 59 गांव हैं। उन्होंने अधिशासी अधिकारी कर्वी को निर्देशित किया कि जो नाले खुले हैं, उसकी योजना बनाकर कार्य करें। इसमें अस्थाई रूप से एवं स्थाई रूप से व्यवस्था की जाए। उन्होंने यह भी कहा, दोनों की अलग-अलग कार्य योजना बनाकर कार्य किया जाए। नदियों के किनारे सब्जी या फूलों की खेती आदि की जा सकती है। जिससे की सफाई बनी रहेगी। उन्होंने कहा, जो नदियों के किनारे गांव बसे हैं, उनके नाले जो गिरते हैं, उनको भी ट्रैकिंग की जाए।

मंदाकिनी नदी के किनारे हो वृक्षारोपण
जिलाधिकारी ने कहा, मंदाकिनी नदी के किनारे वृक्षारोपण भी कराया जाए। तीर्थ स्थानों पर गंदगी को भी रोकना है। इसका प्रचार-प्रसार भी कराया जाए। उन्होंने कहा, ज्यादातर गंदगी हम लोगों से ही होती है। उन्होंने यह भी बताया कि जनपद में 75 अमृत सरोवर का निर्माण किया जा रहा है। उन्होंने सिंचाई विभाग के निर्देशित किया कि नदी में सिल्ट आदि को निकाल दिया जाए तो उसे क्या लाभ होगा, जो गांव नदी के किनारे बसे हैं, उनको भी चिन्हित किया जाए।

खबरें और भी हैं...