पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

तेंदू पत्ता तोड़ने वाले मजदूरों को नहीं मिला पैसा:एक वर्ष बीत जाने के बाद भी नहीं मिला 36000 रूपया, मजदूरों ने पत्र लिखकर जिलाधिकारी से लगाई गुहार

मानिकपुर, चित्रकूटएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक

चित्रकूट जिले के विकासखंड मानिकपुर क्षेत्र के ग्राम पंचायत ऊँचाडीह के मजरा गांव गढ़वा एवं चौर के ग्रामीणों ने पिछले वर्ष तेंदू पत्ता तोड़ने का पैसा आज तक न मिलने पर जिलाधिकारी चित्रकूट से पत्र लिखकर मजदूरी दिलाने की गुहार लगाई है।

दो तीन दिन में पैसा मिलने की हुई थी बात

गढ़वा एवं चौर गांव के गायत्री,सुमन, अमरनाथ, रेखा, मंती, उर्मिला,शंकर, पुष्पराज, कोरी,गणेश सहित दर्जनों मजदूरों ने बताया है कि उन्हें वन निगम के कर्मचारियों द्वारा तेंदू पत्ता तुड़वाने के लिए एक वर्ष पूर्व 2021 में सरैयां इकाई ले जाया गया था, जहां उनके द्वारा तेंदूपत्ता तुड़ाई का कार्य अच्छे तरीके से किया गया, लेकिन फाड़ मुंशी ने पैसे देने की बात की गई तो उनके द्वारा दो तीन दिन में पैसा दे देने के लिए कह कर हम लोगों को वापस घर भेज दिया था।

लगभग एक वर्ष बाद भी नहीं मिला मजदूरों को पैसा

वहीं काम किए मजदूरों ने बताया कि वह तब से लगातार मुंशी से पैसा मांग रहे हैं, लेकिन आज एक साल बीत जाने के बाद भी लगभग 36000 हजार रुपया तेंदूपत्ता में काम करने वाले किसी भी मजदूर को उनकी मजदूरी नहीं मिल पाई है।

मजदूरों का कहना है कि जब भी पैसा मांगने वह मुंशी के पास जाते हैं,तो उसके द्वारा मजदूरों को कोई न कोई बहाना बना कर वापस कर देता है। अंत में थक कर मजदूरों ने जिला अधिकारी चित्रकूट को पत्र लिखकर अपनी मेहनत की मजदूरी दिलाने की गुहार लगाई है।

खबरें और भी हैं...