पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

चंदौली में भारतीय किसान संघ की मेहनत लाई रंग:49 वर्ष बाद खोदी गई सरने माइनर, दो दर्जन गांव के किसानों को मिली राहत

चंदौलीएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक

चंदौली में नियामाताबाद ब्लॉक के सरने माइनर की खोदाई का कार्य रविवार को पूरा हो गया। अब माइनर से रेमा से लेकर महदेउर के बीच दो दर्जन गांव के किसान आसनी से फसलों की सिंचाई कर सकेंगे। इस माइनर की खोदाई के लिए भारतीय किसान संघ के पदाधिकारियों ने काफी लंबा संघर्ष किया। जिसके चलते सिंचाई विभाग के अफसरों की नींद खुली।

700 मीटर की खुदाई के लिए लंबा इंतजार
नरायनपुर गंगा नहर से जुड़ी सरने माईनर में सात सौ मीटर की खुदाई नहीं हुई थी। इसके लिए भारतीय किसान संघ और क्षेत्र के किसानों ने लंबे अर्से तक संघर्ष किया। इसके बाद सीएम पोर्टल पर किसानों ने अपनी समस्या दर्ज कराया। इसके अलावा किसानों ने तहसील दिवस में भी उच्चाधिकारियों के सामने सिंचाई की समस्या को उठाया। इसके बाद एसडीएम मनोज पाठक ने राजस्व विभाग की टीम को भेजकर नहर की जमीन का सिमाकन किया गया।

49 साल बाद सरने माइनर की सात सौ मिटर की खुदाई हुई
49 साल बाद सरने माइनर की सात सौ मिटर की खुदाई हुई

माइनर की खुदाई शुरू किया गया
सिमांकन के सिंचाई विभाग के अधिकारियों को अवगत कराया गया। सिंचाई विभाग के अवर अभियंता सुनील कुमार गुप्ता, एसडीओ राकेश श्रीवास्तव ने जेसीबी मशीन से माइनर की खुदाई शुरू किया गया। भारतीय किसान संघ के प्रांतीय मंत्री अखिलेश स‌िंह ने बताया कि सरने गांव से गुजरने वाली माइनर से सरने, धपरी, रोहणा, महदेऊर सहित अन्य गांव के किसानों को सिंचाई का लाभ मिलेगा।

49 साल बाद की गई खुदाई
महदेऊर के भारतीय किसान संघ के पूर्व ब्लॉक अध्यक्ष भोला यादव ने कहा कि 49 साल बाद सरने माइनर की सात सौ मिटर की खुदाई बाधित थी। लेकिन खोदाई के बाद किसानों को काफी राहत मिली है। अवर अभियंता सुनील कुमार गुप्ता ने कहा कि सात सौ मीटर नहर की खुदाई कार्य पूर्ण हो गया है। माइनर के कमजोर तटबंध की मरम्मत का कार्य चल रहा है। जो जल्द पूरा हो जाएगा।

खबरें और भी हैं...