पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

दोस्त बारात नहीं ले गया तो मानहानि का नोटिस भेजा:50 लाख रुपए का हर्जाना मांगा, कहा- मेरी बेइज्जती की, यह तरीका ठीक नहीं

बिजनौर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

न्योता देने के बाद भी दोस्त को बारात में नहीं ले जाना एक दूल्हे को भारी पड़ा है। दोस्त ने इसे अपनी बेइज्जती मानी और खफा हो गया। नाराजगी भी इतनी बढ़ी कि उसने दूल्हे दोस्त को 50 लाख का मानहानि नोटिस भेज दिया है। मामला हरिद्वार से जुड़ा है। यूपी के बिजनौर में 23 जून को बारात आई थी।

खरीदारी में हाथ बंटाया, कार्ड भी बांटा था
बिजनौर में धामपुर की रहने वाली अंजू की शादी हरिद्वार के बहादराबाद की आराध्या कॉलोनी के रवि के साथ तय हुई थी। कनखल देवनगर का रहने वाला चंद्रशेखर दूल्हे का जिगरी दोस्त था। जब से शादी तय हुई थी, तब चंद्रशेखर बारात में जाने के लिए काफी उत्साहित था।

उसने शादी के सामानों की खरीदारी में भी हाथ बंटा रहा था। उसने दूल्हे को एक लिस्ट बनाकर भी दी थी और कहा था कि लिस्ट के हिसाब से लोगों को शादी का कार्ड बांट दे। इस पर रवि ने मोना, काका, सोनू, कन्हैया, छोटू और आकाश को कार्ड बांट दिया और उनसे शादी में आने के लिए बोला।

दोस्त बोले- यह तरीका ठीक नहीं, तोड़ दो दोस्ती
23 जून को चंद्रशेखर अपने दोस्तों के साथ शाम 4.50 बजे रवि के घर पहुंचा। तब तक वहां से बारात जा चुकी थी। इस पर चंद्रशेखर ने रवि को फोन किया तो उसने बताया, ''वो लोग बारात लेकर तो निकल चुके हैं, आप लोग अपने-अपने घर वापस चले जाओ।'' इस पर चंद्रशेखर के साथ बारात में जाने के लिए आए लोग उस पर ही नाराज होने लगे। कहने लगे, ''रवि कैसा दोस्त है, जो तुम्हारे बिना ही बारात लेकर चला गया। वह रवि से दोस्ती तोड़ दे।''

चंद्रेशखर ने रवि को फोन किया, लेकिन नहीं जताया खेद
यह बात चंद्रशेखर के दिल पर लग गई। उसने रवि को फोन मिलाया। कहा, ''निमंत्रण देने के बावजूद मुझे शादी में नहीं ले गए।'' इस पर दूल्हे ने न तो कोई खेद जताया और न ही शादी में न ले जाने का कोई कारण बता पाया। इस बात ने चंद्रशेखर को इतना परेशान किया कि उसने रवि को सबक सिखाने का फैसला ले लिया।

चंद्रशेखर ने अपने वकील वकील अरुण भदौरिया से संपर्क किया। वकील के माध्यम से दूल्हे रवि को नोटिस भेजकर 3 दिन के भीतर माफी मांगने और हर्जाने के तौर पर 50 लाख रुपए देने की मांग की है। ऐसा न होने पर कोर्ट में मुकदमा दर्ज कराने की चेतावनी दी है। मानहानि का यह नोटिस रवि के घर पहुंच चुका है।

भास्कर के पास चंद्रशेखर की तरफ से दोस्त रवि को भेजी गई नोटिस भी है। आप भी उसे पढ़ सकते हैं...

वकील बोले- आत्महत्या करने जा रहा था चंद्रेशखर
वकील अरुण भदौरिया ने बताया, ''चंद्रशेखर दोस्त द्वारा की गई बेइज्जती से इतना आहत था कि वह आत्महत्या करने जा रहा था। उसे न्याय दिलाने का भरोसा देकर सुसाइड करने से रोका।'' दूल्हे को नोटिस भेज दिया गया है। अगर उसने 3 दिन में माफी नहीं मांगी तो मामले को कोर्ट तक ले जाया जाएगा।

खबरें और भी हैं...