पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

चांदपुर में ट्रैफिक कांस्टेबल से उलझना डॉक्टर को पड़ा भारी:ट्रैफिक कांस्टेबल ने डॉक्टर के खिलाफ कराया मुकदमा दर्ज, वीडियो वायरल

चाँदपुरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक

चांदपुर में एक डॉक्टर को ट्रैफिक कांस्टेबल से उलझना भारी पड़ गया है। डॉक्टर का ट्रैफिक कांस्टेबल से उलझते हुए एक वीडियो सोशल मीडिया पर तेजी से वायरल हो रहा है। जिसमें डॉक्टर ट्रैफिक कांस्टेबल से उलझते हुए दिखाई दे रहा है। ट्रैफिक कांस्टेबल मोहित चौहान ने डॉक्टर खिलाफ थाना चांदपुर पर मुकदमा पंजीकृत कराया है ।

दरअसल मामला बिजनौर जिले के चांदपुर थाना क्षेत्र का है जहां का एक वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है वायरल वीडियो लगभग 12:00 बजे का बताया जा रहा है जो चांदपुर के कराल रोड पर फाटक के पास का है जहां लगभग 12:00 बजे ट्रैफिक कांस्टेबल मोहित चौहान कराल रोड पर रेलवे फाटक के पास ड्यूटी कर रहे थे। जहां उनसे चेकिंग के दौरान एक चार पहिया वाहन चालक उलझ गए। दोपहर बाद मामले का एक वीडियो सोशल मीडिया पर तेजी से वायरल होने लगा।

वायरल वीडियो में कार चालक ट्रैफिक कांस्टेबल से उलझता हुआ दिखाई दे रहा है और वायरल वीडियो में ही वो उसे धमकाते हुए और गाली गलौज करते हुए देखा जा रहा है मामले में ट्रैफिक कांस्टेबल मोहित चौहान ने थाना चांदपुर पर कार चालक डॉक्टर संदीप चौधरी के खिलाफ थाना चांदपुर में धारा 332, 353, 504, 506 में मुकदमा दर्ज कराया है।

मामले में यातायात कांस्टेबल मोहित चौहान का आरोप है कि जब वह चांदपुर के कराल रोड के पास रेलवे फाटक के निकट उच्च अधिकारियों के आदेश पर वाहन चेकिंग कर रहे थे तो उन्होंने हाथ देकर लाल रंग की स्विफ्ट कार संख्या UP 20 BL 7555 को रोका कार चालक फोन पर बात करते हुए गाड़ी चला रहा था और कार चालक सीट बैल्ड का भी प्रयोग नहीं कर रहा था।

कार चालक अपना नाम डॉक्टर संदीप चौधरी बता रहा था और उसने कार से उतरते ही हम पुलिस वालों को मां बहन की गंदी गंदी गालियां देने लगा और कहा कि तुझे चालान काटना बहुत भारी पड़ेगा और धमकी देते हुए मेरी बॉडी पेन कैमरा व वर्दी का कोलर पकड़ते हुए जनता के सामने बल प्रयोग कर मुझे पीछे की ओर धक्का देने लगा मेरे बहुत समझाने के बाद भी वह नहीं माना और सरकारी कार्य में बाधा पहुंचाई।

वहीं मेरे कांस्टेबल मोहित चौहान के द्वारा थाना चांदपुर में डॉक्टर संदीप चौधरी के खिलाफ धारा 332, 353, 504, 506 में मुकदमा पंजीकृत कराया गया है।

खबरें और भी हैं...