पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

MP-MLA कोर्ट से बरी हुए रंगनाथ मिश्रा:भदोही में घर पर लगा बधाई देने वालों का तांता, अब जुटेंगे चुनाव की तैयारियों में; बोले- विजय मिश्रा ने फर्जी मुकदमे करवाये

भदोहीएक वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
रंगनाथ मिश्रा ने कोर्ट केस के लिए विधायक विजय मिश्रा को जिम्मेदार ठहराया है। - Money Bhaskar
रंगनाथ मिश्रा ने कोर्ट केस के लिए विधायक विजय मिश्रा को जिम्मेदार ठहराया है।

भदोही के रहने वाले पूर्व मंत्री और बसपा नेता रंगनाथ मिश्रा को प्रयागराज हाई कोर्ट की एमपी एमएलए कोर्ट ने आय से अधिक संपत्ति मामले में बरी कर दिया है। एक दिन पहले कोर्ट से बरी हुए रंगनाथ मिश्रा के घर अब बधाई देने वालों का तांता लगा हुआ है। उन्होंने कोर्ट केस के लिए जेल में बंद बाहुबली विधायक विजय मिश्रा को जिम्मेदार ठहराया है। उन्होंने कहा कि अब मैं चुनाव की तैयारियों में लगूंगा।

2012 में दर्ज हुआ था मामला

पूरा मामला औराई थाना का है। जहां बसपा के पूर्व मंत्री रंगनाथ मिश्रा के खिलाफ 2012 में सपा सरकार के बनते ही आय से अधिक संपत्ति का मुकदमा दर्ज किया गया था। यह मुकदमा विजिलेंस के महानिदेशक ओपी दीक्षित ने दर्ज कराया था। तत्कालीन ईडी के मुताबिक रंगनाथ मिश्रा और उनके परिजन के प्रयागराज स्थित टैगोर टाउन और जॉर्ज टाउन में जमीन मकान के अवैध रूप से होने पर उनके खिलाफ धन शोधन निवारण अधिनियम-2002 (पीएमएलए) के तहत यह कार्रवाई की गई थी। आरोप था कि रंगनाथ मिश्र ने वर्ष 2010 में सरकार में मंत्री रहते हुए अपने और परिजन के नाम पर ये संपत्तियां बनाई थीं।

ईडी ने की थी जांच

ईडी ने पूर्व मंत्री के खिलाफ उत्तर प्रदेश विजिलेंस विंग द्वारा अक्टूबर 2013 में दर्ज प्राथमिकी के आधार पर अगस्त 2014 में जांच शुरू की थी। तत्कालीन जांचकर्ता ने कहा था कि प्रारंभिक जांच के दौरान यह पता चला कि उन्होंने 2007 से 2011 के दौरान उत्तर प्रदेश सरकार में माध्यमिक शिक्षा मंत्री के पद पर रहते हुए यह अवैध संपत्ति अर्जित की थी। जिसकी सुनवाई प्रयागराज में चल रही थी।

रात से सुबह तक बधाइयों का लगा रहा तांता

पूर्व मंत्री के सहसेपुर स्थित आवास पर सुबह से ही बधाई देने वालों का तांता लगा रहा। रंगनाथ मिश्रा ने बताया कि 1980 से लेकर 2012 तक मुझ पर एक भी मुकदमा नहीं था। अवसरवादी राजनीतिज्ञों ने मेरे प्रति कुचक्र रच कर फंसाने का काम किया। जिसको आज माननीय न्यायालय ने दोषमुक्त कर यह साबित कर दिया कि इंसाफ आज भी जिंदा है। पूर्व मंत्री ने कहा कि चार बार विधायक और प्रदेश की सरकार में मंत्री रहते हुये मैंने भदोही जनपद के साथ ही पूर्वांचल के विकास को लेकर जमीन पर काम किया है। जिससे विचलित हुए मेरे राजनैतिक विरोधियों ने मेरे खिलाफ एक गहरी साजिश रची थी। जिसमे मुझे जेल भी जाना पड़ा था और मेरे साथ अमानवीय व्यवहार किया गया। उस समय सपा सरकार में ज्ञानपुर से बाहुबली विधायक के इशारे पर पूरी कहानी रची गई थी।

कौन हैं रंगनाथ मिश्रा ?
बताते चलें कि भदोही के औराई विधानसभा सीट से रंगनाथ मिश्रा चार बार विधायक रहे हैं। जिसमें 1993, 1997 और 2005 में भारतीय जनता पार्टी से चुने गये थे। जबकि बसपा के टिकट पर 2007 में चौथी बार भी विधायक बन गए थे। रंगनाथ मिश्र भाजपा और बसपा की सरकारों में गृह राज्य मंत्री ,बिजली मंत्री ,माध्यमिक शिक्षा मंत्री सहित कई मंत्रालयों की जिम्मेदारी संभाल चुके हैं। हालांकि पूर्व मंत्री ने कहा है की हम जनता के लिए सदैव लड़ाई लड़े है और अब आगे भी उन्ही के आशीर्वाद से लड़ते रहेंगे।

खबरें और भी हैं...