पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

डीएम ने अल्‍ट्रासाउंड संचालकों को दिया निर्देश:अल्ट्रासाउड केंद्र पर न हो भ्रूण परीक्षण, डायग्नोस्टिक सेंटर पोर्टल पर अपडेट करें जानकारी

भदोही2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

भदोही में अल्‍ट्रासाउंड सेंटरों के खिलाफ लगातार शिकायत मिल रही थी। जिस पर डीएम ने सीएमओ से अवैध रूप से संचालित अल्‍ट्रासाउंड सेंटरों पर कार्रवाई के निर्देश दिये। डीएम ने निर्देश दिया है कि पीसीपीएनडीटी के पालन को लेकर जिले में सक्रियता जरूरी है। इसका कड़ाई से पालन होना चाहिए। अनाधिकृत केंद्रों को तत्काल बंद कराया जा रहा है। नियमों की अनदेखी करने वाले सेंटरों पर सख्त कार्रवाई की जाए।

डीएम ने निर्देश दिया कि अल्ट्रासाउड केंद्रों में भ्रूण परीक्षण कतई न हो। केंद्रों में जांच के लिए जो भी आए उसका पूरा ब्योरा रजिस्टर में दर्ज किया जाए। इसमें लापरवाही मिले तो उसके खिलाफ प्राथमिकी दर्ज कराई जाए। मंगलवार को कलेक्ट्रेट सभागार में जिला सलाहकार समिति की बैठक हुई। इसमें डीएम आर्यका अखौरी ने सीएमओ से कहा कि हर हाल में पूर्व गर्भाधान और प्रसव पूर्व निदान तकनीक (पीसीपीएनडीटी) कानून का सख्ती से पालन किया जाए। जांच में अनाधिकृत मिले दो डायग्नोस्टिक सेंटर संचालकों के खिलाफ सीएमओ डा. संतोष कुमार चक काे निर्देश दिया कि वे एसडीएम से मिलकर परिवाद दाखिल करें।

एक सप्ताह के अंदर पोर्टल पर अपना ब्योरा दर्ज करें संचालक
डीएम ने संचालकों को चेताया कि डायग्नोस्टिक सेंटर पोर्टल पर जिन्होंने अपने सेंटर अपडेट नहीं किये हैं। वह ऑनलाइन एक सप्ताह के अंदर पोर्टल पर अपना ब्योरा दर्ज करें। ऐसा न करने वालों का लाइसेंस निरस्त किया जाए। सामाजिक संतुलन बरकरार रखने को बेटियों के जन्म पर उत्सव मनाने को लोगों को प्रेरित किया जाए। समाज में विकृत मानसिकता से गर्भस्थ शिशु का परीक्षण कराना संज्ञेय व गैर जमानतीय अपराध के साथ सामाजिक अपराध भी है। केंद्र संचालक जिनकी जांच करें उसकी रिपोर्ट प्रत्येक माह सीएमओ कार्यालय में उपलब्ध कराएं। मानक न पूरा करने वाले केंद्रों का लाइसेंस नवीनीकरण पर रोक लगा दी जाए।

ये लोग रहे मौजूद
इस दौरान मुख्य विकास अधिकारी भानु प्रताप सिंह, अपर मुख्य चिकित्साधिकारी डा. अमित दुबे, बीएसए भूपेन्द्र नारायण सिंह, सीएचसी-पीएचसी अधीक्षक व अल्ट्रासाउंड केंद्र संचालक थे।

खबरें और भी हैं...