पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

गर्मी में 5 से ज्यादा हैंडपंप खराब, पेयजल संकट:महिला महाविद्यालय और सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र के हैंडपंप भी खराब, बीडीओ बोले-जल्द होगी मरम्मत

औराई्2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

भदोही के ब्लॉक औराई में 5 से ज्यादा हैंडपंप खराब पड़े हैं। इससे लोगों को गर्मी में पानी की किल्लत से जूझना पड़ रहा है। महिला महाविद्यालय और सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र के हैंडपंप भी खराब पड़े हुए हैं। बीडीओ ने जल्द मरम्मत कराने का आश्वासन दिया है।

ब्लाक औराई में तीन वर्षों से अधिक समय से बोरिंग टेक्नीशियन कार्यरत हैं। उनकी लापरवाही से हैंडपंप रीबोर नहीं हो पा रहे हैं। इससे सरकारी संस्थानों एवं गांवों में पानी के लिए लोगों को परेशान होना पड़ रहा है।

ग्रामीणों के अनुसार गर्मी में हैंडपंप खराब होने से लोग घर से पानी लेकर बाहर निकल रहे हैं।
ग्रामीणों के अनुसार गर्मी में हैंडपंप खराब होने से लोग घर से पानी लेकर बाहर निकल रहे हैं।

अस्पताल में आने वाले मरीजों को होती है परेशानी

अंकित पांडेय ने बताया कि गर्मी के मौसम में सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र में आने वाले मरीजों को पानी के लिए परेशान होना पड़ता है। केशव प्रसाद राजकीय महिला महाविद्यालय में लगा हैंडपंप भी महीनों से खराब है, इसकी भी मरम्मत नहीं हो पा रही है। महाविद्यालय के प्राचार्य डॉक्टर वृजकिशोर त्रिपाठी ने कहा कि विकास खंड कार्यालय में प्रार्थना पत्र दिया गया है, अभी तक मरम्मत नहीं हो पाई है।महाविद्यालय में लगभग 1600 की संख्या में छात्राएं पढ़ने आती हैं। बीए, बीएससी की परीक्षा का अतिरिक्त सेंटर भी आया है।

भदोही के औराई में खराब हैंडपंपों के कारण लोगों को परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है।
भदोही के औराई में खराब हैंडपंपों के कारण लोगों को परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है।

बोरिंग टेक्नीशियनों पर लग चुका है रिश्वत मांगने का आरोप

बोरिंग टेक्नीशियन पर कई बार रिश्वत मांगने के आरोप लग चुके हैं। ग्रामीण अंचलों में वे पैसे लेकर हैंडपंप का रिबोर करते हैं। सरकारी संस्थानों में लगे हैंडपंप की मरम्मत का पैसा नहीं मिलता है, लिहाजा यहां पर वह कोई ध्यान नहीं देते हैं। इससे हैंडपंप महीनों से खराब ही पड़े रहते हैं।

भदोही के औराई में गर्मी हैंडपंपों के हलक ही सूखे हुए हैं। इससे लोगों को पेयजल संकट से जूझना पड़ रहा है।
भदोही के औराई में गर्मी हैंडपंपों के हलक ही सूखे हुए हैं। इससे लोगों को पेयजल संकट से जूझना पड़ रहा है।

कागजों में ही भेज देते हैं हैंडपंप सही होने की रिपोर्ट

शिवमणि दूबे निवासी कैयरमऊ ने बताया कि बोरिंग टेक्नीशियन खुलकर मनमानी करते हैं। वे रिबोर के लिए रुपये की मांग करते हैं, पैसे न देने पर वह कागजों में रिबोर होने की रिपोर्ट भेज देते हैं। खण्ड विकास अधिकारी राघवेंद्र प्रताप शुक्ला ने बताया कि महिला महाविद्यालय व सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र का मामला संज्ञान में आया है, हैंडपंपों की मरम्मत जल्द ही कराई जाएगी।