पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

बस्ती में नदी किनारे फेंका नवजात:रोने की आवाज सुनकर ग्रामीणों को पता चला, पुलिस ने सुरक्षित चाइल्ड लाइन को सौंपा

बस्ती6 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
वाल्टर वाल्टरगंज पुलिस ने चाइल्ड लाइन हेल्प लाइन नम्बर पर फोन कर सूचना दी। - Money Bhaskar
वाल्टर वाल्टरगंज पुलिस ने चाइल्ड लाइन हेल्प लाइन नम्बर पर फोन कर सूचना दी।

बस्ती में एक बार फिर से मां की ममता कलंकित हुई। लावारिश हालत में एक नवजात शिशु नदी किनारे फेंका पाया गया। नवजात शिशु को वाल्टरगंज थाना क्षेत्र के भतरिंहवा गांव के पास स्थित कठिनईयां नदी किनारे फेंक दिया गया था। वो रो रहा था, ग्रामीणों ने राेने की आवाज सुनकर नवजात के पास पहुंचे तो देखा उसकी सांसें चल रही थी। ग्रामीण उसे नदी किनारे से उठाकर बाहर लाए। पुलिस को सूचना दी गई।

सूचना पाकर मौके पर पहुंची वाल्टर वाल्टरगंज पुलिस ने चाइल्ड लाइन हेल्प लाइन नम्बर पर फोन कर सूचना दी। चाइल्ड लाइन टीम के पहुचने के बाद टीम के सदस्यों की सिपुर्दगी में दिया। इससे पूर्व ग्रामीण महिलाएं नवजात शिशु की देखभाल कर रही थी। पुलिस ने बताया कि ग्रामीण महिलाओं की मदद से नवजात शिशु को सही सलामत चाइल्डलाइन को सुपुर्द किया गया।

ग्रामीणों ने मां को कोसा

नवजात शिशु के मिलने को लेकर क्षेत्र में तरह- तरह की चर्चाएं हैं। आशंका जताई जा रही है कि किसी ने लोकलाज के भय से उसे नदी किनारे मरने के लिए छोड़ दिया। जन्म देने वाली मां की नवजात को लावारिस मरने के लिए छोड़ दिए जाने को लेकर लोग कोस रहे है।

पहले भी मिला था नवजात

21 नवम्बर को दुबौलिया थाना क्षेत्र के मेंघूपुर गांव में गन्ने के खेत में एक नवजात शिशु फेंका पाया गया था। नवजात का दोनो पैर किसी जानवर ने काटकर जख्मी कर दिया था। ग्रामीणों द्वारा नवजात शिशु के मिलने की सूचना दुबौलिया पुलिस को दी गई थी।

ग्रामीण महिलाओं की मदद से नवजात शिशु को गन्ने के खेत से बाहर निकलवा कर पुलिस ने उसकी साफ सफाई कराकर एम्बुलेंस से सीएचसी बहादुरपुर ले जाकर इलाज कराया था। चाइल्ड लाइन को फोन कर सूचना दी थी। चाइल्ड लाइन टीम की सदस्यों के सीएचसी पहुंचने पर नवजात को उनकी सिपुर्दगी में दिया गया था।