पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

बस्ती में बीमा कंपनी का फर्जी अधिकारी गिरफ्तार:कस्टमर केयर अफसर बनकर करता था करोड़ों की ठगी, ऑनलाइन गिरोह का है सदस्य

बस्ती7 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
पुलिस के मुताबिक ठगी से कमाए गए रुपयो को फर्जी फर्म बनाकर उन फर्म के नाम पर खुलवाये गए खातों में मंगवाया जाता है। - Money Bhaskar
पुलिस के मुताबिक ठगी से कमाए गए रुपयो को फर्जी फर्म बनाकर उन फर्म के नाम पर खुलवाये गए खातों में मंगवाया जाता है।

बस्ती में विभिन्न बीमा कम्पनियों का फर्जी कस्टमर केयर अधिकारी बनकर करोड़ो रूपए की ठगी करने वाले अर्न्तराज्यीय गिरोह के एक सदस्य को पुलिस ने गिरफ्तार किया है। यह गिरोह ऑनलाइन फ्राड का एक्सपर्ट है। सोनहा थाने में बीमा क्लेम पास कराने के नाम पर फ्रॉड कर 4,11,499 रुपए ग्लोबल सर्विसेज के खाते में डलवा लिए जाने के मामले में मुकदमा दर्ज कर पुलिस विवेचना कर रही थी। पकड़े गए व्यक्ति की पहचान ढाका विलेज जीटीबी नगर नार्थ वेस्ट दिल्ली निवासी राहुल कुमार के रूप में हुई।

एएसपी दीपेन्द्र नाथ चौधरी ने बताया कि सोनहा थाना क्षेत्र निवासी हरिहर प्रसाद से जुलाई माह में एसबीआई बीमा कस्टमर केयर अधिकारी बनकर क्लेम पास होने की बात कहकर उसे बातों में फंसा लिया। कई बार में 4,11499 रुपए ग्लोबल सर्विसेज के खाते में भिजवा लिया। जब उसे अपने साथ हुए फ्रॉड का अहसास हुआ तो उसने सोनहा थाने पर तहरीर दिया। तहरीर के आधार पर धोखाधड़ी और गबन का मुकदमा दर्ज कर पुलिस मामले की विवेचना में लगी थी।

ऑनलाइन फ्राड मामले का वर्कआउट करने में सर्विलांस टीम को भी लगाया गया था। आरोपी को कोतवाली क्षेत्र के बड़ेवन के पास से गिरफ्तार किया गया। बताया कि तलाशी के दौरान उसके पास से 4730 रुपया नगद, एक मोबाइल बरामद किया गया है। पूछताछ में उसने एक संगठित गिरोह चलाने, टेली कालिंग करवाकर लोगो से बंद बीमा का पैसा वापस कराने की बात कहकर उनको पैसा दिलाने के नाम पर ठगी करना स्वीकार किया है।

पुलिस के मुताबिक ठगी से कमाए गए रुपयो को फर्जी फर्म बनाकर उन फर्म के नाम पर खुलवाये गए खातों में रुपया मंगवाया जाता है। इसमें उसका एक अन्य साथी मनोज कुमार भी शामिल है। गिरोह ऑनलाइन सक्रिय होकर पूरे देश में कहीं से भी फोन करने वाले व्यक्तियों को अपने झांसे में लेकर ऑनलाइन ठगी का कार्य करता है। अब तक इस गिरोह द्वारा पिछले दो वर्ष में देश के विभिन्न राज्यों के व्यक्तियों से करोड़ो रुपयों की ऑनलाइन ठगी की जा चुकी है।