पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

बस्ती में 3.55 करोड़ रुपए पीएम निधि की होगी वसूली:4250 अपात्र किसानों को किया चिह्नित, 2,17,201 किसानों की होनी है ई-केवाईसी

बस्तीएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक

प्रधानमंत्री किसान सम्‍मान निधि लेने वाले जिले के 4250 आयकरदाता किसानों से 3,55,74,000 रुपए की वसूली की जाएगी। जिले के सभी 14 ब्‍लाकों में मिलाकर 4707 आयकरदाता किसान चिन्हित किए गए हैं। इनमें से 4250 ने प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना का लाभ लिया है। जबकि 457 आयकरदाता किसानों ने सम्‍माननिधि की किश्‍त प्राप्‍त नहीं किया है। इस कारण वे वसूली कार्रवाई की जद में नहीं आ पाए हैं।

ई-केवाईसी के लिए निर्धारित किया गया लक्ष्य

डीएम सौम्‍या अग्रवाल ने बताया कि पिछले वर्ष किसान सम्‍मान निधि प्राप्‍त करने वाले आयकरदाता किसानों को लनोटिस जारी करने के निर्देश दिए गए हैं। कलेक्ट्रेट सभागार में समीक्षा बैठक कर प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना के अंतर्गत पंजीकृत किसानों के ईकेवाईसी की समीक्षा की। ईकेवाईसी के लिए ब्लॉकवार प्रतिदिन का लक्ष्य निर्धारित किया । उपनिदेशक कृषि को प्रतिदिन किए गए ईकेवाईसी की रिपोर्ट उपलब्ध कराएं जाने के लिए निर्देशित किया। कहा कि इस कार्य में शिथिलता बरतने वाले कर्मचारियों की रिपोर्ट भी प्रस्तुत करें।

बताया कि जिले में 217201 किसानों का ईकेवाईसी किया जाना है। कॉमन सर्विस सेंटर के जिला प्रबंधकों को निर्देशित किया गया है कि ग्रामवार कैंप लगाकर वे ईकेवाईसी कराना सुनिश्चित करें। ईकेवाईसी के लिए ब्‍लाकवार लक्ष्‍य निर्धारित किया गया है। ब्‍लाक बहादुरपुर में 1450, बनकटी में 1800, बस्ती सदर में 1500, दुबौलिया में 800, गौर में 1250, हरैया में 1050, कप्तानगंज में 750, कुदरहा में 1275, परशुरामपुर में 1100, रामनगर एवं रुधौली में 800- 800, सल्टौआ गोपालपुर, विक्रमजोत में 1000 -1000, साऊघाट ब्लॉक में 900 ईकेवाईसी करने का प्रतिदिन का लक्ष्य निर्धारित किया गया है।

लक्ष्य पूरा न करने वाले सीएससी संचालक पर होगी कार्रवाई

सीएससी संचालकों को प्रतिदिन ईकेवाईसी का लक्ष्य पूरा न करने पर उनके विरूद्ध कार्यवाही की चेतावनी दी है। कृषि विभाग के कर्मचारियों को निर्देशित किया कि कैंप लगने पर सभी सम्मान निधि प्राप्त करने वाले किसानों को कैंप में लाएं तथा उनका ई-केवाईसी कराना सुनिश्चित करें। बैठक में एसडीएम आनन्‍द श्रीनेत, उप निदेशक कृषि अनिल कुमार, उपायुक्त एनआरएलएम रामदुलार, विभागीय अधिकारी, कृषि विभाग के कर्मचारी मौजूद रहे।

खबरें और भी हैं...