पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

बस्ती…गौ तस्कर और पुलिस के बीच मुठभेड़:25 हजार का इनामी समेत 3 गौ तस्कर गिरफ्तार, मुठभेड़ में एक कांस्टेबल, एक तस्कर घायल

बस्ती5 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

बस्ती के गौर थाना पुलिस, SOG और सर्विलांस टीम ने एक मुठभेड़ के दौरान 25 हजार के इनामी गौ तस्कर सहित 3 को गिरफ्तार किया है। घेराबंदी के दौरान गौ तस्कर द्वारा की गई फायरिंग में गोली एक कांस्टेबल की जांघ में लगी। पुलिस की जवाबी कार्रवाई में एक गौ तस्कर के पैर में गोली लगने के बाद उनकी गिरफ्तारी की गई। घायल कांस्टेबल और गौ तस्कर को इलाज के लिए अस्पताल में भर्ती कराया गया है। पकड़े गए गौ तस्करों के पास से दो तमंचा, चाकू, स्विफ्ट डिजायर कार बरामद किया गया है।

अंतरराज्यीय हैं गौ तस्कर

एसपी आशीष श्रीवास्तव ने बताया कि गौर थाना क्षेत्र के शिवा घाट के पास बगीचे से घेराबंदी कर 25 हजार रुपये के इनामी रामपुर जिले के भोट थाना क्षेत्र के अहमदनगर तराना निवासी राशिद पुत्र हसनैन को गिरफ्तार किया गया। घेराबंदी देख उसके द्वारा पुलिस टीम पर फायरिंग की गई। फायरिंग में एसओजी कांस्टेबल अजय यादव के बाएं जांघ में गोली लगी। इसके बाद जवाबी कार्रवाई में गौ तस्कर राशिद के दाहिने पैर में गोली लगने के बाद उसके साथ 3 गौ तस्करों को भी गिरफ्तार किया गया। घायलों को इलाज के लिए जिला अस्पताल ले जाया गया।

मुठभेड़ में भारी मात्रा में असलहा बरामद

गौर थाने का गैंगस्टर राशिद पुत्र हसनैन निवासी अहमदनगर तराना रामपुर तथा उसके दो अन्य साथियों की पुलिस को काफी दिनों से तलाश थी. सूचना मिलने पर आज पुलिस ने घेराबंदी कर तीनों को गिरफ्तार कर लिया. पुलिस ने गौ तस्करों के पास से एक तमंचा 315 बोर तथा कारतूस एक तमंचा 12 बोर व कारतूस और एक चाकू मौके पर ही बरामद किया। साथ ही एक चार पहिया वाहन स्विफ्ट डिजायर भी बरामद की है।

इनकी हुई है गिरफ्तारी

पुलिस ने बताया कि राशिद थाना गौर से गैंगस्टर एक्ट में वांछित था। इसके ऊपर 25 हजार का पुरस्कार घोषित किया गया था। इसके अलावा जो अन्य 2 की गिरफ्तारी की गई है। उनमें रामपुर जिले के बजरिया खानसामा मुन्सी मजीद साहब की कोठी निवासी इकबाल पुत्र इरशाद कुरैशी, काशीपुर निवासी जाकिर कुरैसी पुत्र भूरा शामिल हैं। पूछताछ में उनके द्वारा गौवंश की तस्करी करने और छुट्टा घूमने वाले जानवरों को इकठ्ठा करने की योजना बना रहे थे। छुट्टा गौवंश को पकड़ कर उन्हें बिहार ले जाकर बेचने की योजना थी।