पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

शनिवार से तोड़े जाएंगे शहर में लाने नालियों के कब्जे:मानसून आने को है तैयार, नाला-नाली अभी तक नहीं हो सके हैं साफ

बरेली5 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
मानसून आने को है तैयार, नाला-नाली अभी तक नहीं हो सके हैं साफ। अब नगर निगम शनिवार से चलाएगा अभियान। प्रतिकात्मक फोटा। - Money Bhaskar
मानसून आने को है तैयार, नाला-नाली अभी तक नहीं हो सके हैं साफ। अब नगर निगम शनिवार से चलाएगा अभियान। प्रतिकात्मक फोटा।

बरेली में मानसून के साथ ही बरसात का मौसम आने को है। वही अभी तक शहर के सिविल लाइंस समेत सकरे बाजारों की नाले नालियां तक नहीं साफ है। वो भी तब जब प्रभारी मंत्री से लेकर कमिश्नर और डीएम तक बरसात से पहले नाले व नालियों के सफाई के आदेश दे चुका है।

जिससे बसरसात शुरू होने पर चो नाले-नालियां ओवरफ्लो न हो और जल भरास की समस्या न हो सके। बावजूद इसके अभी तक नगर निगम नाले व नालियों के सफाई का लक्ष्य नहीं पूरा कर सका है। अब शनिवार से निगम ने नाला-नाली सफाई अभियान चलाने की बात कही है।

तोड़े जाएंगे नाला-नाली के स्लैब

नगर निगम ने बताया कि शहर के सिविल लाइंस, कुतुबखाना, अयूब खां, किला, आलमगिरीगंज स्थित मुख्य बाजारों में दुकानदारों ने शोरूम बनाकर नालों एवं नालियों पर लिंटर डालकर कब्जा कर लिया है। अब इन कब्जों को हटाने के लिए नगर निगम शनिवार से अभियान चलाकर नाले पर बने अवैध लिंटर तोड़कर कब्जा मुक्त कराएगा। जिसके बार नाले व नाली की साफ सफाई हो सकेगी।

जिन इलाकों में नाला-नाली सफाई अभियान चलना है उन इलाकों के दुकान व शोरूम मालकों को पिछले हफ्ते ही अतिक्रमण हटाने की चेतावनी जारी की गई थी। उसके बावजूद भी इन व्यापारियों ने नगर निगम की चेतावनी को गंभीरता से न लेते हुए अतिक्रमण नहीं हटाया गया। अब नगर निगम खुद नाले-नाली पर बने स्लैब तोड़ेगा। सबसे पहले शहर के सिविल लाइंस, पुराना शहर, शिकलापुर के खिलाफ अभियान चलाकर नाला नाली की सफाई कराई जाएगी। सबसे अधिक पानी भराव की समस्या इन इलाकों में है। वहीं अतिक्रमण के चलते इन इलाकों में रोजाना नाला नाली की सफाई नहीं हो पाती है। जिससे कई जगह नाला-नाली चोक हैं।

अतिक्रमण तोड़ने के बाद वसूलेगा जुर्माना

नगर निगम की माने तो पहले भी इन अतिक्रमण करने वालों को नोटिस देकर स्लैब तोड़ने की हिदायत दी थी। जिससे नाला-नाली की सफाई हो सके लेकिन अतिक्रमणकारी मानते ही नहीं है। पहले भी बरसात से पहले स्लैब तोड़े गए लेकिन बाद में यह फिर स्लैब डालकर नाला नाली पर अतिक्रमण कर लेते है। नगर निगम शनिवार से इनके खिलाफ अभियान चलाएगा और स्लैब तोड़ने के बाद जुर्माना भी वसूलेगा।

नगर निगम ने इन्हें पहले भी कहा था कि आवश्यकता पड़ने पर अस्थाई रूप से स्लैप डाल सकते है। जिसे हटाकर सफाई की जा सके लेकिन अधिकांश शेरूम वाले लिंटर डालकर पक्का स्लैब डालकर अतिक्रमण कर लेते हैं।

खबरें और भी हैं...