पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Market Watch
  • SENSEX57260.580.27 %
  • NIFTY17053.950.16 %
  • GOLD(MCX 10 GM)47950-0.42 %
  • SILVER(MCX 1 KG)62854-0.82 %

बरेली...फरार आरोपियों के खिलाफ गैर जमानती वारंट जारी:20 मार्च को उत्पीड़न से तंग आकर महाविद्यालय के कर्मी ने किया था सुसाइड

बरेलीएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
प्रतीकात्मका फोटो - Money Bhaskar
प्रतीकात्मका फोटो

कन्या महाविद्यालय के चतुर्थ श्रेणी कर्मचारी की खुदकुशी के मामले में फरार आरोपियों के खिलाफ गैर जमानती वारंट जारी हो गया। बता दें कि सूदखोरों के उत्पीड़न से परेशान होकर 20 मार्च को अरुण कुमार सक्सेना ने सुसाइड कर लिया था। इसमें मुख्य आरोपी चंदा बाबू को जेल पहले ही भेज दिया गया था। जबकि दूसरे आरोपी की मौत हो चुकी है, जबकि 6 अभी फरार हैं। कोर्ट ने सभी की गिरफ्तारी का आदेश जारी कर दिया। प्रेम नगर पुलिस ने कोर्ट में सभी फरार आरोपियों के खिलाफ गैर जमानती वारंट की अर्जी लगाई थी।

सूदखोरों से लिया था कर्ज
कन्या महाविद्यालय आर्य समाज भूड़ बरेली में तैनात चतुर्थ श्रेणी कर्मचारी अरूण कुमार सक्सेना ने सूदखोरों से कर्ज लिया था। वह मूल रकम के साथ ब्याज भी अदा कर चुके थे। बावजूद सूदखोर उनका उत्पीड़न करने से बाज नहीं आ रहे थे। परेशान होकर अरूण कुमार ने 20 मार्च को खुदकुशी कर ली थी। उनका शव बेग अस्पताल के पास सड़क किनारे पड़ा मिला था।

जेब में मिला था सुसाइड लेटर, आठ सूदखोर के थे नाम
पड़ताल के दौरान पुलिस को उनकी जेब से एक सुसाइड लेटर मिला था। मृतक अरूण की पत्नी सरिता ने भी सूदखोरों पर परेशान करने का आरोप लगाया था। पीड़िता की तहरीर पर पुलिस ने जाटवपुरा निवासी पप्पू वाल्मीकि, चंदा बाबू, सचिन वाल्मीकि, संजय नगर निवासी विक्की राणा, अमित निवासी पटिया वाली गली, कंचन और उसके भाई संजू सक्सेना समेत आठ पर मुकदमा दर्ज किया था। अधिकारियों के आदेश पर आरोपी चंदा बाबू को पुलिस ने जेल भेज दिया था। गिरफ्तारी के डर से सात नामजद आरोपी घर छोड़कर फरार हो गए थे। हालांकि एक आरोपी संजू सक्सेना की मौत हो चुकी है।

दरवाजे पर इज्तत उतरी है, अब जीना बेकार है
अरुण ने सुसाइड लेटर में अपनी व्यथा लिखी थी। उसने पत्नी सरिता को लिखा था कि आज सुबह दरवाजे पर जो मेरी इज्जत उतरी है। लोगों और बच्चों के सामने उसका जीना कब बेकार है। बच्चों का ध्यान रखना। बच्चों और तुमसे मैं हाथ जोड़कर माफी मांगता हूं। जो मैं इस तुम लोगों के लिए इस जन्म में नहीं कर पाया, उसे अगले जन्म में पूरा करूंगा। पुलिस की लापरवाही भी उजागर होने पर काफी किरकिरी हुई थी। परिजनों का आरोप था खुदकुशी से पहले अरूण ने आरोपी के खिलाफ कार्रवाई के लिए प्रेमनगर थाने में शिकायत की थी, लेकिन सूदखोरों के दबाव में कार्रवाई नहीं हुई थी।

गिरफ्तारी नहीं होने पर आगे कुर्की की कार्रवाई होगी
प्रेमनगर इंस्पेक्टर शीतांशु शर्मा ने बताया कि फरार आरोपियों के खिलाफ कोर्ट से गैर जमानती वारंट की अपील की थी। कोर्ट ने सभी के खिलाफ गैर जमानती वारंट जारी कर दिया है। गिरफ्तारी नहीं होने पर आगे कुर्की की कार्रवाई होगी।