पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

बरेली में रही बांग्लादेशी महिला घुसपैठिया गिरफ्तार:सात साल पहले फर्जी दस्तावजे के सहारे भारत में किया था प्रवेश, डॉक्टर से की थी शादी

बरेलीएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
बांग्लादेशी महिला ने सात साल पहले फर्जी दस्तावजे के सहारे भारत में किया था प्रवेश, डॉक्टर से की थी शादी। - Money Bhaskar
बांग्लादेशी महिला ने सात साल पहले फर्जी दस्तावजे के सहारे भारत में किया था प्रवेश, डॉक्टर से की थी शादी।

बरेली के अलीगंज थाना क्षेत्र से पुलिस ने एक बांग्लादेशी महिला घुसपैठिया को गिरफ्तार किया है। महिला को पुलिस ने बार्डर पुलिस की सूचना पर उठाया था। इस दौरान जब उसके दस्तावेज चेक किए तो पता चला कि महिला 7 साल पहले फर्जी दस्तावेज के सहारे भारत में घुसी और फिर बरेली पहुंची। यहां अलीगंज थाना क्षेत्र निवासी प्राइवेट प्रैक्टिस करने वाले डॉक्टर से उसने शादी की फिर उसने कागजों में अपना नाम दर्ज कराया था।

इसी साल महिला बांग्लादेश जाने की कोशिश की तो बार्डर पुलिस ने उसके कागजात चेक किए और उसे वापस भेजा दिया। इसके बाद बार्डर पुलिस ने बरेली के अलीगंज पुलिस को इस महिला की गोपनीय रिपोर्ट भेजी थी। फिलहाल महिला से पूछताछ की जा रही है।

अवैध रूप से पासपोर्ट के साथ आधार कार्ड भी बनवाया

अलीगंज थाना के पास रहकर प्राइवेट क्लीनिक चलाने वाले डा. समरेंद्र मंडल के घर पुलिस पहुंची और उनकी पत्नी विंसी विवा मंडल को पकड़ा लिया। जिसके बाद पुलिस उन्हें लेकर थाने गईं। पुलिस की माने तो उन्हें बार्डर पुलिस की तरफ से एक गोपनीय सूचना दी गई थी कि उनके क्षेत्र में रहने वाली विंसी विवा मंडल पत्नी समरेंद्र मंडल के कागज फर्जी है। वह मूल रूप से बांग्लादेश की रहने वाली घुसपैठिया है।

जिसके बाद ही पुलिस के कान खड़े हो गए थे। बार्डर पुलिस ने साफ कहा था कि महिला ने अवैध रूप से पासपोर्ट, आधार कार्ड के साथ ही वोटर लिस्ट में अपना नाम भी दर्ज करा लिया है। पुलिस ने जब उठाकर जांच की तो पता चला कि विंसी 2015 में अवैध रूप से आई और फर्जी कागज बनवाकर अलीगंज के आमरेंद्र मंडल से विवाह कर लिया था। 2021 में विंसी ने पासपोर्ट के लिए आवेदन किया था। स्थानीय पुलिस ने कागजातों के आधार पर उसकी रिपोर्ट भी सही लगाई थी। जिसके आधार पर उसका पासपोर्ट भी बन गया था।

बार्डर पुलिस ने शक होने पर था लौटाया

पुलिस की माने तो 2021 में बीते महीने विंसी पासपोर्ट और कागजात के साथ बांग्लादेश बार्डर पर पहुंची। जहां उसने बार्डर पार कर बांग्लादेश जाने की कोशिश भी की। बार्डर पुलिस ने उसके कागजों को चेक किया तो फर्जी कागजात का शक होने पर उसे वापस भेज दिया था। इसके बाद अलीगंज पुलिस को एक गोपनीय रिपोर्ट बनाकर भेजी थी।

जिसके बाद अलीगंज पुलिस ने जांच के दौरान पाया कि महिला बांग्लादेशी है और धोखाधड़ी कर भारत में रह रही है। उसने यहां शादी कर स्थानीय होने का आधार कार्ड, वोटर कार्ड के साथ अन्य कागजात भी तैयार करा लिए थे। दारोगा आशोक कुमार की माने तो महिला के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया गया है। पूछताछ जारी है, प्रथम दृष्टया जांच में महिला बांग्लादेश की रहने वाली पाई गई है।

खबरें और भी हैं...