पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

मीरगंज में दिव्यांग शिक्षक के सहारे चल रहा जूनियर हाईस्कूल:बेहतर कार्य करने के लिए किया प्रेरित, खंड विकास अधिकारी ने किया निरीक्षण

मीरगंजएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक

फतेहगंज पश्चिमी: जहां एक ओर महज आठ कक्षाओं के लिए फतेहगंज पश्चिमी के कंपोजिट विद्यालय में 32 शिक्षक, शिक्षामित्र व अनुदेशक कार्यरत हैं। वहीं इस उच्च प्राथमिक विद्यालय औंध में तीन कक्षाओं को पढ़ाने व समस्त कामकाज देखने और 110 बच्चों को पढ़ाने की जिम्मेदारी अकेले एक शिक्षक पर है।

किया गया आकस्मिक निरीक्षण
शिक्षा का अधिकार अधिनियम लागू होने के उपरान्त भी बच्चों की उपेक्षा समझ से परे हैं। गत दिनों जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी बरेली द्वारा फतेहगंज पश्चिमी विकास क्षेत्र में लगातार दो दिन आकस्मिक निरीक्षण कराया गया, जिसमें नबाबगंज विकास क्षेत्र के खण्ड शिक्षा अधिकारी सन्तोष कुमार व शेरगढ़ विकास क्षेत्र के खण्ड शिक्षा अधिकारी शीश पाल सिंह ने विद्यालय का सघन निरीक्षण दोनों ही अधिकारीगण द्वारा किया गया।

विद्यालय की सराहना की
एक बेहतर सुलझे हुए सहयोगी अधिकारी की तरह ही दोनों का मित्रवत व्यवहार विद्यालय परिवार के साथ रहा।खण्ड शिक्षा अधिकारी नवाबगंज संतोष कुमार ने विद्यालय में शिक्षक के समर्पण को देखकर विद्यालय की सराहना को विद्यालय की निरीक्षण पंजिका में भी अंकित किया, जो और बेहतर कार्य करने के लिए प्रेरित करता है। सत्य और न्याय के मार्ग पर चलने को प्रेरित करने वाली एवम् जीवन दर्शन से अभिभूत कराने की प्रतीक पुस्तक गीता भी सादर अवलोकनार्थ भेंट की गई।

प्रशासनिक स्तर पर फतेहगंज पश्चिमी विकासखंड के खंड विकास अधिकारी का भी द्वितीय दिवस पर आगमन हुआ। पूरे ग्राम पंचायत का भ्रमण किया और इसके साथ ही ग्राम पंचायत को मॉडल ग्राम पंचायत के रूप में विकसित करने पर चर्चा भी खंड विकास अधिकारी ने की। विद्यालय को इस स्तर तक पंहुचाने में जिन सम्मानित विद्यालय में कार्यरत रहे सभी साथियों, ग्रामवासी, नन्हे मुन्ने बच्चों, अभिभावकों, ग्राम प्रधानों, सम्मानित जनप्रतिनिधियों, अधिकारीगण का सकारात्मक सहयोग रहा है। सभी का बहुत बहुत आभार सोशल मीडिया के माध्यम से विद्यालय के एकमात्र शिक्षक राहुल यदुवंशी द्वारा किया गया है।