पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

रामसनेही घाट में गर्मी से बिलबिलाए क्षेत्रीय:बिजली कटौती और लो वोल्टेज से लोग परेशान, नहीं मिल रही निज़ात

रामसनेही घाटएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक

मई माह में पड़ रही भीषण गर्मी में जहां एक तरफ लोग गर्मी से परेशान है। वहीं दूसरी तरफ बिजली विभाग द्वारा की जा रही अघोषित कटौती ने लोगों की परेशानी को बढ़ा दी है। अघोषित कटौती की समस्या सबसे ज्यादा ग्रामीण क्षेत्रों में देखने को मिल रही है।

आपको बता दें कि गर्मी बढ़ने के साथ ही देवीगंज रामसनेही घाट इलाके में लोग बिजली कटौती से परेशान हो रहे हैं। पिछले कुछ दिनों से बेतहाशा बिजली कटौती बढ़ गई है। जिससे लोगो को गर्मी से बुरा हाल है,किसान भी परेशान है इस समय गेंहू की कटाई के बाद मेंथा की सिंचाई का कार्य भी जोरों पर है। जिसमें पानी की अत्यधिक जरूरत पड़ती है। लेकिन अघोषित बिजली की कटौती से किसान मेंथा की फसल नहीं लगा पा रहे हैं। बिजली की आंख मिचौली का खेल दिनभर चलता ही रहता है।

गांव वालों ने बताई समस्या

अंशू बताते हैं कि जैसे ही गर्मी शुरू हुई वैसे ही बिजली कटौती बढ़ गई है। यह मेंथा की फसल का टाइम है। सिंचाई की जरूरत है, लेकिन बिजली कटौती की वजह से कृषि कार्य भी बाधित हो रहा है। वहीं क्षितिज बताते हैं कि गर्मी से राहत पाने के लिए उन्होंने कुछ दिन पहले ही बिजली का कनेक्शन लिया, लेकिन बिजली कटौती की वजह से लाइट बहुत कम मिल पा रही है। वहीं कोटवा सड़क के रहने वाले नन्हेलाल बताते है की अगर लाइट आ भी गई तो वोल्टेज इतना कम रहता है कि पंखा भी चलना मुश्किल होता है।

मौके पर मौजूद ग्रामीणों का फोटो
मौके पर मौजूद ग्रामीणों का फोटो

पेड़ की छांव में बीतती है दोपहर

फिलहाल लाइट की आवाजाही को लेकर सभी परेशान है। पूरी दोपहर गांव में लोग पेड़ की छांव में बैठते है। अभी विभाग द्वारा जो रोस्टर जारी हुआ है उस हिसाब से ग्रामीण इलाकों में बिजली की कटौती बहुत की जा रही है।जिसके चलते लोगो को परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। अब तो स्थिति यह है की दिन रात मिलाकर अगर 5 से 6 घंटे लाइट आती भी है तो वोल्टेज का बुरा हाल रहता है। जिससे बिजली का रहना न रहने के बराबर है।वहीं एसडीओ का कहना है कि ग्रामीण इलाकों में रोस्टर के हिसाब से बिजली दी जा रही है। लोड अधिक होने के कारण वोल्टेज की समस्या हो सकती है। उसे भी जल्द ही दूर कर लिया जाएगा।

खबरें और भी हैं...