पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Market Watch
  • SENSEX57276.94-1 %
  • NIFTY17110.15-0.97 %
  • GOLD(MCX 10 GM)48432-0.52 %
  • SILVER(MCX 1 KG)62988-1.1 %

कांग्रेस नेता पीएल पुनिया का मायावती पर निशाना:बोले- ब्राह्मण और दलित बसपा से कोसों दूर, अब सभी पार्टियों की निगाहें इन्हीं वोटरों पर

बाराबंकी2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
कांग्रेस नेता पीएल पुनिया का मायावती पर निशाना। - Money Bhaskar
कांग्रेस नेता पीएल पुनिया का मायावती पर निशाना।

बाराबंकी में कांग्रेस इलेक्‍शन कैंपेन कमेटी के चेयरमैन पीएल पुनिया ने बसपा सुप्रीमो मायावती को लेकर बड़ा बयान दिया। उन्होंने कहा कि मायावती अब दलित वोटरों को फिर से जोड़ने में लगी हैं। 2017 के विधानसभा चुनाव में 86 आरक्षित सीटों में से सिर्फ 2 सीटें ही बसपा के खाते में आई थीं। इससे साफ तौर पर देखा जा सकता है कि किस तरह से दलित वोटर बसपा से हट चुके हैं। अन्य कम्युनिटी की बात करें तो वह पहले से ही बसपा से दूर हैं।

एंटी इनकंबेंसी का हार-जीत में महत्वपूर्ण रोल

पीएल पुनिया ने कहा कि मायावती अच्छी तरह से जानती हैं कि आरक्षित सीटों पर दलित वोटरों के अलावा अन्य कम्युनिटी के वोटर हार-जीत का फैसला करते हैं। रिर्जव सीट पर रिजर्व कैंडिडेट ही रहता है, इसलिए दलित वोट बंट जाता है। इनमें से जिसको अन्य कम्युनिटी के वोटरों का साथ मिल जाता है वो जीत जाता है। पीएल पुनिया ने कहा कि और भी बहुत सी चीजें हैं जो उम्मीदवारों की हार-जीत तय करती हैं। जैसे एंटी इनकंबेंसी, जिसका लाभ पिछली बार भाजपा को मिला। उनके उम्मीदवार को इसका लाभ मिला और वह जीत गए। इससे बसपा को समझ जाना चाहिए कि आपका साथ कौन दे रहा है।

दलित वोट अब अलग-अलग पार्टियों में बंट चुका

पीएल पुनिया ने कहा कि बसपा ने ब्राह्मण सम्मेलन किया है, लेकिन ब्राह्मण वोटर कहा जाएगा ये मायावती को भी नहीं पता। मायावती गारंटी से नहीं कह सकती हैं कि उनके पास ब्राह्मण वोट आएगा। मायावती का परंपरागत दलित वोट भी अब अलग-अलग पार्टियों में बंट चुका है। केवल यह कह देना कि दलित वोटर और रिजर्व सीट पर फोकस करना है। इससे हम जीत जाएंगे तो यह कहना ठीक नहीं है। ब्राह्मण और दलित दोनों समाज अब बसपा से कोसों दूर हैं। हालांकि दलित वोटरों पर सबकी निगाहें जमी हुए हैं।

ओवैसी और बीजेपी एक-दूसरे के पूरक हैं

पीएल पुनिया ने कहा कि असदुद्दीन ओवैसी और भाजपा एक-दूसरे के पूरक हैं। जगजाहिर है कि ओवैसी जो बयान देते हैं, बीजेपी उसका फायदा उठाने में लग जाती है। भाजपा की तरफ से जो बयानबाजी होती है, उसका पूरा फायदा ओवैसी उठाने में लग जाते हैं। इससे साफ तौर से देखा जा सकता है कि किस तरह से बीजेपी और ओवैसी एक-दूसरे के पूरक बने हुए हैं। पीएल पुनिया ने कहा कि रही बात कांग्रेस पार्टी की बात तो कांग्रेस ने कभी संप्रदायिकता फैलाकर चुनाव जीतने का प्रयास नहीं किया है। हम सभी धर्मों को एक साथ लेकर चलने वाले लोग हैं।

भाजपा छोड़ कांग्रेस में आ रहे लोग

पीएल पुनिया ने कहा कि पीलीभीत सांसद वरुण गांधी ने किसानों के लिए खुलकर बोला और बीजेपी का विरोध किया। वरुण गांधी के कांग्रेस में आने की संभावना पर पीएल पुनिया ने कहा कि अब जाहिर है कि लोग भाजपा को छोड़कर कांग्रेस में आ रहे हैं। इसका निर्णय हम नहीं कर सकते हैं। इसका निर्णय पार्टी हाईकमान सोनिया गांधी और दिल्ली में बैठे हुए पार्टी के वरिष्ठ नेता करेंगे। अभी मैं कुछ प्रतिक्रिया नहीं दे सकता हूं।