पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Market Watch
  • SENSEX57858.150.64 %
  • NIFTY17277.950.75 %
  • GOLD(MCX 10 GM)486870.08 %
  • SILVER(MCX 1 KG)63687-1.21 %

बांदा...महिला डॉक्टर ने ब्लड देकर बचाई मरीज की जान:मेडिकल कॉलेज में प्रसव के बाद महिला की हालत हो गई थी गंभीर, डॉक्टर ने अपना ब्लड देकर बचाई जान

बांदा4 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
महिला डॉक्टर ने ब्लड देकर बचाई मरीज की जान। - Money Bhaskar
महिला डॉक्टर ने ब्लड देकर बचाई मरीज की जान।

बांदा मेडिकल कॉलेज की डॉक्टर नीलम सिंह ने अपनी सामान्य मेडिकल प्रैक्टिस से बढ़कर इंसानियत का एक बड़ा काम किया है। उन्होंने एक महिला मरीज को बचाने के लिए न सिर्फ समय से इलाज किया बल्कि जरूरत पड़ने पर अपना खून भी दिया। जब डॉक्टरों में अपने मरीज के प्रति इस तरह का जज्बा होता है तो निश्चित रूप में यह इंसानियत की एक मिसाल के रूप में अच्छा संकेत होता है।

बता दें कि बांदा मेडिकल कॉलेज में पिछले दिनों एक महिला को प्रसव पीड़ा होने पर भर्ती कराया गया था। महिला की डिलीवरी सामान्य रूप से नहीं हो पाई थी, इसलिए उसका ऑपरेशन करना पड़ा। ऑपरेशन के तुरंत बाद बच्चा प्रीमेच्योर होने के कारण बच्चे को प्रयागराज रेफर कर दिया गया, जबकि मां का इलाज बांदा मेडिकल कॉलेज में चलता रहा। इसी दौरान महिला को ओ पॉजिटिव ब्लड की आवश्यकता पड़ी। महिला के परिजन बच्चे को लेकर प्रयागराज गए हुए थे। महिला की देख-रेख के लिए वृद्ध पिता थे, जो खून देने की स्थिति में नहीं थे।

ऐसी में जब महिला को खून देने के लिए को नहीं मिला तो मेडिकल कॉलेज की डॉक्टर नीलम सिंह ने अपना खून दिया। डॉक्टर का भी ब्लड ग्रुप ओ पॉजिटिव था। डॉक्टर नीलम के इस कदम की मेडिकल कॉलेज समेत बांदा जिले में चर्चा हो रही है। समाज में ऐसे डॉक्टरों की बेहद आवश्यकता है, जो अपने फर्ज को निभाने के लिए किसी भी हद तक जा सकें।

खबरें और भी हैं...