पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

पूर्व सांसद रिजवान जहीर की 2 करोड़ की कोठी कुर्क:बलरामपुर में एक करोड़ की जमीन भी सील, चुनाव से पहले योगी को ललकारा था

तुलसीपुर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

पूर्व सांसद और सपा नेता रिजवान जहीर के खिलाफ गुरुवार को बड़ी कार्रवाई हुई। बलरामपुर में तुलसीनगर से सटे शीतलापुर गांव में पूर्व सांसद की कोठी और बगल में खाली पड़ी जमीन को प्रशासन ने मुनादी के बाद सीज कर दिया। सीज संपत्ति की कीमत करीब 3 करोड़ रुपए है। सिर्फ कोठी ही 2 करोड़ रुपए की है।

विरोध की आशंका के तहत मौके पर पुलिस और पीएसी को तैनात किया गया था। रिजवान जहीर हत्या के मामले में बेटी और दामाद के साथ जेल में बंद हैं। विधानसभा चुनाव से पहले पूर्व सांसद रिजवान जहीर ने सीएम योगी पर विवादित बयान दिया था।

कोठी के गेट पर पुलिस फोर्स तैनात रही। ढोल बजाकर सीज की गई संपत्ति।
कोठी के गेट पर पुलिस फोर्स तैनात रही। ढोल बजाकर सीज की गई संपत्ति।

पीएसी-पुलिस की मुस्तैदी में ढोल-नगाड़े से हुई मुनादी

गुरुवार को उपजिलाधिकारी की अगुआई में राजस्व और पुलिस टीम द्वारा आवास व भूमि की नपाई कराई गई। पूर्व सांसद के परिजनों के साथ पूरे परिसर की वीडियोग्राफी कराते हुए कमरे और मुख्य गेट को सीज किया गया। इससे पूर्व क्षेत्र में ढोल नगाड़े के मुनादी कराई गई। मौके पर गैसड़ी, तुलसीपुर, जरवा, महराजगंज तराई, हरैया थाने की पुलिस और पीएसी लगी रही। उपजिलाधिकारी मंगलेश दुबे ने बताया कि जिलाधिकारी के निर्देश पर गैंगस्टर एक्ट की धारा 14-(1) के तहत पूर्व सांसद रिजवान जहीर की संपत्ति कुर्क करने की कार्रवाई की गई है।

टॉप टेन अपराधियों में नाम हुआ शामिल
पूर्व सांसद रिजवान जहीर का नाम प्रदेश के गैंगस्टर आरोपितों की टॉप टेन की सूची में है। पुलिस ने बताया कि यहीं के महमूद ने पूर्व सांसद पर जमीन कब्जे की शिकायत भी की है। पहले चरण में आज उनकी पत्नी सैयदा हुमा फातिमा के नाम से अवैध रूप से अर्जित संपत्ति कुर्क की गई है। जब्त की गई सम्पत्ति की कीमत 3 करोड़ रुपए है।

5 महीने पहले सीएम योगी पर दिया था विवादित बयान
5 महीने पहले बलरामपुर में पूर्व सपा सांसद रिजवान जहीर ने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ पर विवादित बयान दिया था। रिजवान जहीर ने कहा था कि "2022 विधानसभा चुनाव में सीएम योगी को धोती खोलकर गोरखपुर तो ओवैसी को हैदराबाद खदेड़ा जाएगा। रिजवान जहीर ने कहा, 'इस मुल्क में हमारे बाप-दादा ने कुर्बानी दी है। हम यहां खैरात में नहीं रह रहे हैं। आज मुसलमान को जो खतरा है, वो सिर्फ और सिर्फ मोदी और योगी से है'।​​

रिजवान (दाएं) सपा में पहले भी रह चुके हैं। चुनाव से पहले उनकी ये तस्वीर सामने आई थी।
रिजवान (दाएं) सपा में पहले भी रह चुके हैं। चुनाव से पहले उनकी ये तस्वीर सामने आई थी।

सपा नेता की हत्या के मामले में जेल में है रिजवान जहीर

बताते चलें कि, बीते 4 जनवरी की रात सपा नेता और तुलसीपुर नगर पंचायत के पूर्व चेयरमैन फिरोज पप्पू​​ का मर्डर हुआ था। जिसका आरोप पूर्व सांसद रिजवान जहीर, उनकी बेटी और उनके दामाद पर लगा। पुलिस ने उन्हे अरेस्ट कर जेल भी भेज दिया। बीते अक्टूबर में ही रिजवान जहीर सपा में शामिल हुए थे।

बाहुबलियों में होती है रिजवान जहीर की गिनती

​​​​​रिजवान जहीर साल 1989 में निर्दल, 1993 में सपा और 1996 में बसपा से तुलसीपुर विधानसभा क्षेत्र से विधायक चुने गए थे। साल 1998 और 1999 में सपा से वो श्रावस्ती लोकसभा से सांसद भी रहे हैं। रिजवान जहीर के राजनीति के सितारे गर्दिश में उस वक्त आ गए, जब उन्होंने साल 1999 के बाद मुलायम सिंह यादव को सीधा चैलेंज करते हुए कहा कि रिजवान जहीर को किसी पार्टी की जरूरत नहीं है।

रिजवान जहीर खुद में पार्टी है और मुलायम सिंह यादव चाहे तो मेरे सामने चुनाव लड़ कर देख लें, उन्हें भी हार ही हाथ लगेगी। जिसके बाद से रिजवान जहीर के सितारे गर्दिश में चले गए और तब से उन्होंने एक भी चुनाव नहीं जीता। हालांकि, 2021 में अखिलेश यादव उन्हें फिर से सपा में ले आए।

खबरें और भी हैं...