पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

बलरामपुर में डाक्टरों ने पत्रकार को पीटा:जिला मेमोरियल चिकित्सालय का प्रकरण, भ्र्ष्टाचार व लेट लतीफी की खबरें प्रकाशित करने से थे नाराज

बलरामपुर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

उत्तर प्रदेश में पत्रकारों की पिटाई और उन्हें फर्जी मामलों में जेल भेज देना अब आम सा हो गया है। ऐसा ही कुछ बलरामपुर में भी देखने को मिला। यहां एक निजी चैनल के पत्रकार जोकि कई दिनों से संयुक्त जिला चिकित्सालय व जिला मेमोरियल चिकित्सालय में व्याप्त भ्रष्टाचार व अनियमितता तथा डॉक्टरों की लेट लतीफी की खबर प्रकाशित कर रहे थे, को आज डाक्टरों ने जिला मेमोरियल चिकित्सालय में ही पीट दिया। घटना के बाद से पत्रकारों में रोष है। पीड़ित पत्रकार ने कोतवाली नगर में लिखित तहरीर देकर न्याय की गुहार लगाई है।

आपको बता दें कि एक निजी चैनल के पत्रकार राहुल रतन ने बताया कि आज करीब 12:30 पर वह जिला मेमोरियल चिकित्सालय में समाचार संकलन के लिए गए हुए थे। लगातार वह संयुक्त जिला चिकित्सालय व जिला मेमोरियल चिकित्सालय में व्याप्त भ्रष्टाचार व डाक्टरों की लेट लतीफी की खबरें प्रकाशित कर रहे थे। जिससे तमाम डॉक्टरो व कर्मचारियों में खलबली मची हुई थी।

पीड़ित पत्रकार का कहना है कि आज जब उन्होंने जिला मेमोरियल चिकित्सालय में खाली कुर्सियों की कवरेज शुरू की तो कर्मचारी उनसे उलझ पड़े। इसी दौरान कर्मचारियों ने उन्हें भद्दी भद्दी गालियां देते हुए मारा पीटा। पीड़ित पत्रकार का आरोप है कि डॉ राजेश सिंह, डॉ रमेश कुमार पांडे व डॉ अजय पांडे सहित 12 से 15 लोगों ने मिलकर उन्हें मारा-पीटा है। पीड़ित पत्रकार का कहना है कि उस पर कैंची से भी वार किए गए हैं जिसके निशान उसके शरीर पर मौजूद हैं। पीड़ित पत्रकार ने पूरे मामले की लिखित तहरीर कोतवाली नगर में देकर पुलिस से न्याय की गुहार लगाई है।

चेहरे पर लगी खरोंच।
चेहरे पर लगी खरोंच।

पूरे मामले मे पुलिस अधीक्षक राजेश सक्सेना का कहना है कि पीड़ित पत्रकार के साथ जो भी घटना घटित हुई है उसकी पूर्ण जांच के निर्देश दे दिए गए हैं साथ ही पीड़ित पत्रकार की तहरीर पर प्राथमिकी दर्ज कर दोषियों के विरुद्ध कड़ी कार्रवाई की जाएगी।

खबरें और भी हैं...