पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

बलरामपुर में जलशक्ति मंत्री ने लिया निर्माणाधीन बांधों का जायजा:कहा- सपा के मंत्री दो-तीन महीने करते थे मौज, हम लोगों की समस्याओं को जानने का काम कर रहे

बलरामपुर4 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

बलरामपुर में उत्तर प्रदेश के जल शक्ति मंत्री स्वतंत्र देव सिंह ने बाढ़ रोधी परियोजनाओं का स्थलीय निरीक्षण किया। जल शक्ति मंत्री ने सदर ब्लॉक के मदारा और सरदारगढ़ गांव में चल रही बांध और बाढ़ रोधी परियोजनाओं का जायजा लिया। इस दौरान उन्होंने ग्रामीणों से बातचीत भी की। जिला नेपाल के तराई इलाके में शामिल है। यहां पर नेपाल से बहकर आने वाले नाले और राप्ती नदी के कारण भीषण बाढ़ की समस्या हर वर्ष बनी रहती है। इसी से बचाव के लिए हर वर्ष सरकारों द्वारा लंबी चौड़ी कवायद की जाती है।

निरीक्षण के दौरान मंत्री ने अधिकारियों को काम जल्द पूरा कर लेने के लिए निर्देश दिए।
निरीक्षण के दौरान मंत्री ने अधिकारियों को काम जल्द पूरा कर लेने के लिए निर्देश दिए।

'हमारी और उनकी सरकार में फर्क'
निरीक्षण के दौरान उन्होंने न केवल अपने सरकार की तारीफ की बल्कि समाजवादी पार्टी और बहुजन समाज पार्टी को आड़े हाथों भी लिया। उन्होंने आरोप लगाते हुए कहा कि सपा के मंत्री पहले दो-तीन साल तक आराम और मौज किया करते थे। जबकि जब से हमारी सरकार बनी है। तब से हम लगातार क्षेत्र में हैं और लोगों की समस्याओं को जानने का काम कर रहे हैं। यही फर्क है हमारे शासनकाल और उनके शासनकाल में।

ग्रामीणों की समस्या को सुनने के बाद स्वतंत्र देव सिंह ने समस्या के निस्तारण का आश्वसन दिया।
ग्रामीणों की समस्या को सुनने के बाद स्वतंत्र देव सिंह ने समस्या के निस्तारण का आश्वसन दिया।

ग्रामीणों की समस्याओं पर दिया गया ध्यान
स्वतंत्र देव सिंह ने कहा कि आज हमने बलरामपुर जिले की दो बांध परियोजनाओं का निरीक्षण किया है। यहां बाढ़ रोधी कार्य करवाए जा रहे हैं। ग्रामीणों को किसी तरह की समस्या ना हो इस कारण से अधिकारियों को निर्देशित किया गया है। वह 15 जून तक सभी कार्यों को पूरा कर लें, जिससे बारिश होने पर ग्रामीणों को समस्या ना आए। उन्होंने कहा कि हमने ग्रामीणों से उनकी समस्याएं सुनी है।

ग्रामीणों के बताए अनुसार प्लान बनाकर उनकी समस्याओं का निस्तारण किया जाएगा। उन्होंने कहा कि अधिकारियों को निर्देशित किया गया है कि किसी तरह की कोई समस्या ग्रामीणों को ना हो यदि होती है तो उनकी जिम्मेदारी तय की जाएगी।