पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

बदले मौसम के बाद बलरामपुर प्रशासन अलर्ट:जिला आपदा प्रबंधन प्राधिकरण ने जारी की एडवाइजरी, जिला आपदा विशेषज्ञ ने किया जागरूक

2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

मौसम विभाग द्वारा अलर्ट जारी किए जाने के बाद जिला आपदा प्रबंधन प्राधिकरण ने एडवाइजरी जारी कर दी है। जिला आपदा विशेषज्ञ अरूण सिंह ने बताया कि खराब मौसम में आकाशीय बिजली गिरने की प्रबल संभावना अत्यधिक रहती है। प्रतिवर्ष वज्रपात से बड़ी संख्या में जनहानि व पशुहानि होती है तथा इन्फास्ट्रक्चर को भी भारी नुकसान पहुंचता है। इसलिए इससे बचाव किया जाना नितान्त आवश्यक है।

जिला आपदा विशेषज्ञ ने बचाव के बारे में जागरूक करते हुए बताया कि यदि मौसम खराब हो तो वज्रपात से बचने के लिए पेड़ों के नीचे, मोबाइल टावर व उंचे मकान के नीचे शरण न लें। बच्चों को बाहर न खेलने दें, लोहे की खिड़की, दरवाजे व हैण्डपम्प आदि को न छुएं। धातु से बने छाते का प्रयोग न करें, लैण्डलाइन एवं बिजली के उपकरणों का उपयोग न करें, खुल वाहनों में सवारी न करें, बचाव के लिए जमीन पर न लेटें तथा तैराकी या नौकायन न करें।

इसी प्रकार यदि मौसम खराब हो तो तुरन्त किसी पक्के घर में शरण लें, आसपास सुरक्षित स्थान न होने पर दोनों कानों को बंद कर पैरों को सटा लें तथा घुटनों का टेक लेकर उकड़ू बैठ जाएं। घरों में विद्युत उपकरणों को प्लग से अलग कर दें। यदि खेतों में हैं तो तुरन्त सूखे स्थान पर चल जाएं। हाईटेंशन तारों, पोखरों, बिजली के खंभों तथा कटीले तारों से दूर रहें।

उन्होंने बताया कि वज्रपात से होने वाली जनहानि के न्यूनीकरण के लिए राहत आयुक्त कार्यालय ने इंटीग्रेटेड अर्ली वार्निंग सिस्टम विकसित किया गया है। इन्टीग्रेटेड अर्ली वार्निंग सिस्टम मौसम विभाग द्वारा जारी एलर्ट व डाटा को राहत आयुक्त कार्यालय की वेबसाइट पर रजिस्टर्ड ग्राम प्रधानों, लेखपालों, आंगनवाड़ी कार्यकत्री, आशा, पुलिसकर्मियों एवं कृषकों को बिना किसी मानवीय हस्तक्षेप के रियलटाइम में प्रेषित करता है।

खबरें और भी हैं...