पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

जलशक्ति मंत्री ने कटानरोधी कार्य का किया निरीक्षण:अधीक्षण अभियंता के न मिलने पर स्वतंत्र देव सिंह ने जताई नाराजगी, 50-60 फीसदी ही हो पाया है काम

बलिया3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

बलिया में जलशक्ति मंत्री स्वतंत्र देव सिंह ने शनिवार की रात करीब 9 बजे कटानरोधी कार्यों का निरीक्षण किया। इस दौरान अधीक्षण अभियंता के अनुपस्थित होने पर सवाल किया और बिना अनुमति अवकाश पर जाने की जानकारी मिलने पर नाराजगी जताई। उन्होंने आला अफसरों से फोन पर बात कर अधीक्षण अभियंता पर कार्रवाई करने का निर्देश दिया। जलशक्ति मंत्री ने कटानरोधी कार्य की धीमी रफ्तार पर भी नाराजगी जाहिर की।

रात करीब 9 बजे पहुंचे जलशक्ति मंत्री ने माल्देपुर में चल रही परियोजना के बारे में अधिशासी अभियंता संजय मिश्रा से पूरी जानकारी ली। उन्होंने पैदल ही घूमकर परियोजना के तहत चल रहे कटानरोधी कार्य को बारीकी से देखा। पिछले वर्षों में हुए कटान पर बात कर सिंचाई विभाग के अधिकारियों से निकलने वाले परिणाम के बारे में भी फीडबैक लिया।

एक्सईएन ने बताया, पर्क्युपाइन के डालने से हैबतपुर में नदी का कटान पहले की अपेक्षाकृत कम हुआ है। इसी बीच गांव वालों ने निर्माण कार्य रुके होने की शिकायत कर दी। इस पर भड़के मंत्री ने जेई को फटकार लगाते हुए कड़ाई से पूछताछ की। जेई ने मटेरियल की कमी होने की जानकारी दी। इस पर मंत्री नाराज हुए और कहा कि ऐसी गंभीर परियोजनाओं में लापरवाही कतई ठीक नहीं है। हर हाल में कार्य की रफ्तार बढ़ाई जाए। इस दौरान उनके साथ भाजपा जिलाध्यक्ष जयप्रकाश साहू, धर्मेंद्र सिंह, सीडीओ प्रवीण वर्मा सहित बाढ़ व सिंचाई विभाग के अफसर थे।

जलशक्ति मंत्री स्वतंत्र देव सिंह का निरीक्षण करने रात में आना लोगों की समझ से परे है। जिले से होकर गुजरने वाली 3 बड़ी नदियों गंगा, घाघरा और टोंस से कई जगहों पर कटान हो रहा है। इसको रोकने के लिए करोड़ों रुपए की लागत से काम हो रहा। काम पूरा करने की निर्धारित अवधि 15 जून थी। हालांकि इस तारीख तक महज 50-60 फीसदी बचाव कार्य हो सका है।

रामगढ़, अठगांवा, लालगंज और रेवती इलाकों के साथ ही माल्देपुर, थम्हनपुरा इंदरपुर आदि जगहों पर कटानरोधी काम चल रहे हैं। कहीं पर भी समय पर काम पूरा होता नहीं दिख रहा है। मंत्री के आने की सुगबुगाहट तो दिन से ही थी, लेकिन इतनी रात को वह जायजा लेने पहुंचेंगे इसका भरोसा किसी को भी नहीं था।

खबरें और भी हैं...