पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

50 बच्चों को मिलेगा बाल श्रमिक विद्या योजना का लाभ:बलिया में 24 बच्चियों व 26 बच्चों का हुआ चयन, नहीं करनी पड़ेगी मजदूरी

बलियाएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
50 बच्चों को मिलेगा बाल श्रमिक विद्या योजना का लाभ - Money Bhaskar
50 बच्चों को मिलेगा बाल श्रमिक विद्या योजना का लाभ

बलिया के श्रम विभाग की बाल श्रमिक विद्या योजना असहाय बच्चों के लिए बड़ा सहारा है। इसमें उन बच्चों का चयन किया गया है जिनके माता-पिता या फिर दोनों में से किसी एक के न रहने, माता-पिता के दिव्यांग होने, असाध्य रोग से पीड़ित या भूमिहीन परिवार से हों। इससे बाल मजदूरी करने वाले बच्चों का जीवन बदलेगा। उनका भविष्य उज्ज्वल होगा।

बच्चों ने भी दिखाई पढ़ाई में रूचि

जिले में ऐसे 50 बच्चों में 24 बालिकाओं व 26 बालकों का चयन हुआ है। इसमें कक्षा दस तक के बालकों को पढ़ाई के लिए एक हजार व बालिकाओं को 1200 रुपये प्रतिमाह दिए जाते हैं। इसके लिए लाभार्थी की उम्र आठ से 18 वर्ष के बीच होनी चाहिए। आर्थिक रूप से कमजोर परिवारों में सिर से अभिभावकों का साया उठने पर अधिकांश बच्चे स्कूल से दूर हो जाते हैं। ऐसे में सरकार की इस योजना के अंतर्गत ऐसे बच्चों को जोड़ा जा रहा है। इससे बच्चे बाल मजदूरी छोड़कर पढ़ाई में रुचि दिखाने लगे हैं।

मजदूरी छोड़ दो साल बाद स्कूल पहुंचे बच्चे

फिर से स्कूल जाने लगे बच्चे सरकारी स्कूल में पढ़ने वाले सुखपुरा के दो बच्चों के सिर से पिछले साल जुलाई में मजदूरी करने वाले पिता का साया उठ गया। इसके बाद मां व बेटों के सामने संकट खड़ा हो गया। ऐसे में मां मेहनत-मजदूरी करने लगी। बेटे भी उसके साथ जाने लगे। उनका स्कूल छूट गया। इस बीच बाल श्रमिक योजना के तहत बच्चों को चयन हो गया। दोनों को हर माह एक-एक हजार रुपये मिलने लगे हैं। अब वे फिर से स्कूल जाने लगे हैं।

खबरें और भी हैं...