पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

कांशीराम कॉलोनी में पढ़ी जा रही नमाज पर लगी रोक:बागपत में लम्बे समय से थी विरोध व तनावपूर्ण स्थिति, रोक के बावजूद पढ़ी जा रही थी नमाज

बागपत3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

बागपत में दिल्ली-सहारनपुर हाईवे स्थित कांशीराम कालोनी में बने आवासों में एसपी के सख्त आदेशों के बावजूद खुलेआम विशेष समुदाय के लोगों द्वारा नमाज पढ़ी जा रही थी। इसको लेकर अन्य समुदाय के लोगों में रोष पनपता जा रहा था। जिसके बाद पुलिस प्रशासन ने अब सख्त रवैया अपनाया है। कांशीराम कॉलोनी आवास में रहने वाले लोगों ने स्वयं वहां नमाज पढ़ने से मना कर दिया है। वहीं पुलिस प्रशासन ने भी लोगों को वहां नमाज न पढ़ें जाने की चेतावनी दी है।

बता दें कि प्रदेश सरकार ने धार्मिक स्थलों सहित अन्य जगहों पर भीड़ के रूप में नमाज पढ़ने पर रोक लगा रखी है। लेकिन इसके बावजूद बागपत के बडौत में दिल्ली-सहारनपुर हाईवे स्थित कांशीराम कॉलोनी में बने एक आवास में विशेष समुदाय के लोगों ने प्रत्येक शुक्रवार को भीड़-भाड़ के माहौल में नमाज पढ़ी जा रही थी। शुक्रवार को भी विशेष समुदाय के लोगों ने नमाज पढ़ी।

पुलिस की गई है तैनाती

इस दौरान उन्हें न तो पुलिस प्रशासन का डर था और न ही अन्य किसी का। वहीं कॉलोनी में रहने वाले अन्य समुदाय के लोगों में इस बात को लेकर आक्रोश पनपता जा रहा था। वे कई बार इस संबंध में पुलिस के आला अफसरों को शिकायत कर चुके हैं। बताया गया है कि कांशीराम कॉलोनी में लगभग 50 से ज्यादा लोग इकट्ठा होकर वहां नमाज पढ़ते थे। इस बात को लेकर हिन्दू जागरण मंच के लोग भी कई बार पुलिस प्रशासन से मिलकर नमाज पर रोक लगवाने की मांग कर चुके थे।

सूचना मिलते ही पुलिस मौके पर पहुंची और नमाज पढ़ाने और पढ़ने वाले लोगों से पूछताछ की। साथ ही पुलिस ने उन्हें सख्ती के साथ घर मे नमाज न पढ़ने की हिदायत दी। पुलिस ने कहा कि यदि दोबारा नमाज पढ़ी तो कार्रवाई के लिए तैयार रहें। वहीं बडौत कोतवाली इंस्पेक्टर मगनवीर सिंह गिल ने बताया है कि पुलिस टीम को भेजकर इस पर अंकुश लगाया गया है। लोगों ने अब वहां स्वयं नमाज न पढ़ने की बात कही है। फिलहाल इलाके में शांति बनी हुई है। किसी तरह की तनावपूर्ण स्थिति नहीं है।

खबरें और भी हैं...