पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

बड़ौत में किसानों का धरना दूसरे दिन भी जारी:किसानों और अधिकारियों के बीच 4 घंटे तक चली बातचीत, नहीं निकला कोई नतीजा

बड़ौत2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

बड़ौत में तहसील परिसर में मांगों को लेकर चल रहा किसानों का धरना दूसरे दिन मंगलवार को भी जारी रहा। अधिकारियों ने किसानों ने 4 घंटे तक बातचीत की। इसके बावजूद कोई नतीजा नहीं निकला।

किसान बकाया गन्ना मूल्य, बिजली बिल, नहरों में पानी, बिजली चेकिंग में मनमानी आदि मामलों को लेकर धरना दे रहे हैं।

कल जुलूस निकालने का निर्णय

किसानों ने मांगे पूरी न होने पर बुधवार को जुलूस निकालने का निर्णय लिया। और प्रशासन को दो टूक चेतावनी दी कि जब तक मांगे पूरी नहीं हो जाती, तब तक धरना जारी रहेगा और आगामी एक अक्टूबर को तहसील में ही महापंचायत कर आंदोलन की रणनीति बनाई जाएगी।

नहीं हो रही किसानों की सुनवाई

किसानों ने कहा कि खुद को किसान हितैषी बताने वाली भाजपा सरकार आज कहां है। किसान अपने ही पैसों के लिए मोहताज हो गया है। चीनी मिलों पर किसानों का करोड़ों रुपए बकाया हैं। ऊपर से ऊर्जा निगम की टीम गांव में चेकिंग अभियान के बहाने किसानों के खिलाफ एफआईआर दर्ज कर रही है। खेतों में लहलहा रही फसलों को गौवंश बर्बाद कर रहे है।

बड़ौत में धरना देते किसान।
बड़ौत में धरना देते किसान।

एसडीएम सुभाष सिंह व किसानों के बीच चार घंटे वार्ता चली, लेकिन विफल रही। अब किसानों ने मांग पूरी न होने पर धरना जारी रखने का ऐलान किया है। 1 अक्टूबर को तहसील में इन मुददों को लेकर होने वाली महापंचायत में अधिक से अधिक संख्या में किसानों से पहुंचने का आहवान किया गया। इस अवसर पर अनु मलिक, कालूराम, अमित, नरेन्द्र, दिलशाद, इसरार, वीरेन्द्र, ओमपाल, विक्रम, यशवीर, उपेन्द्र, अनुज आदि शामिल रहे।

खबरें और भी हैं...