पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Business News
  • Local
  • Uttar pradesh
  • Badaun
  • After Completing The Departmental Investigation, SP City Submitted The Report To The Officers, The Investigation Of The Case Registered Against The Accused Continues

बदायूं में अफीम कांड की जांच पूरी, दरोगा-सिपाही मिले दोषी:SP सिटी ने अफसरों को सौंपी रिपोर्ट, आरोपियों पर दर्ज मुकदमे की कवायद तेज

बदायूंएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक

बदायूं में तैनात दरोगा आकाश कुमार व सिपाही अंकुश कसाना ने अफीम तस्करों से 90 हजार रुपए वसूलकर उन्हें छोड़ा था। उनसे बरामद तकरीबन आधा किलो अफीम भी दोनों ने गायब कर दिया था। SP सिटी प्रवीन सिंह चौहान द्वारा की गई विभागीय जांच में इस तथ्य की पुष्टि हुई है और SP सिटी ने अपनी आख्या SSP को सौंप दी है।

पैसे व अफीम लेकर छोड़े थे तस्कर

सिविल लाइंस थाने की शेखूपुर चौकी पर तैनात रहे दरोगा आकाश समेत सिपाही निशांत मान और अंकुश कसाना के खिलाफ पिछले साल भ्रष्टाचार निवारण अधिनियम के तहत मुकदमा कायम किया गया था। मुकदमे में वादी तत्कालीन CO सिटी चंद्रपाल सिंह बने थे। मुकदमे के मुताबिक तीनों ने दानिश, फैजान व जीशान नाम के तस्करों को मय आधा किलो अफीम के साथ पकड़ था। जबकि रकम वसूलते हुए अफीम छीनकर उन्हें रिहा कर दिया गया।
आज तक नहीं पकड़े गए तस्कर
शुरूआत में चर्चा यह रही कि तस्करों से वसूली का खेल नवादा पुलिस चौकी पर हुआ है। लेकिन अफसरों ने गहनता से जांच की तो कारगुजारी शेखूपुर चौकी पुलिस की निकली। वहीं तस्करों को अफसर इसलिए नहीं पकड़ सके क्योंकि मुकदमा दर्ज होने के साथ ही दरोगा-सिपाही अफीम लेकर के भाग गए थे।
फिर से की नौकरी ज्वाइन
काफी समय फरार रहने के दौरान ये घूसखोर टोली हाइकोर्ट की शरण में पहुंची और हाइकोर्ट के आदेश पर अफसरों को उन्हें वापस ड्यूटी ज्वाइन कराना पड़ी। जबकि गिरफ्तारी भी नहीं की जा सकी। SP सिटी ने बताया कि दरोगा आकाश समेत सिपाही अंकुश कसाना इस मामले में संलिप्त निकले हैं। विभागीय जांच पूरी हो चुकी है। दूसरे सिपाही निशांत की भूमिका इस कांड में नहीं थी। हालांकि जो मुकदमा लिखा गया था, उसकी विवेचना CO उझानी कर रहे हैं।