पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Market Watch
  • SENSEX57200.23-0.13 %
  • NIFTY17101.95-0.05 %
  • GOLD(MCX 10 GM)47875-1.15 %
  • SILVER(MCX 1 KG)61247-2.76 %

आजमगढ़ में धूं-धूंकर जल गया रावण कुंभकर्ण:रावण के पुतला दहन के साथ विजय जश्न में डूबे लोग, जगह-जगह लगे हैं मेले, शुरू हुआ दशहरे का मेला

आजमगढ़3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
आजमगढ़ जिले के चौक के रामलीला मैदान में असत्य पर सत्य के प्रतीक रावण का पुतला फूंकते राम भक्त। - Money Bhaskar
आजमगढ़ जिले के चौक के रामलीला मैदान में असत्य पर सत्य के प्रतीक रावण का पुतला फूंकते राम भक्त।

आजमगढ़ में धूं धूंकर जल गया रावण रावण दहन के साथ विजय जश्न में डूबे लोग, जगह-जगह लगे हैं मेले, शुरू हुआ दशहरे का मेला

आजमगढ़ जिले के चौक स्थित पुरानी कोतवाली के रामलीला के मैदान में असत्य पर सत्य की विजय का प्रतीक विजय दशमी का त्योहार रावण वध के बाद मनाया जा रहा है। जिले में रात में रावण व कुंभकर्ण का राम की सेना से पहले संग्राम हुआ और अन्त में विजय राम की सेना की हुई। जिसके बाद रावण व कुंभकर्ण के पुतले में आग लगाकर जलाया गया। बैंडबाजों व सुदंर झांकियों के बीच जिले में विजय दशमी का जुलूस निकाला गया। रावण व कुंभकर्ण के वध के बाद लोग दशहरे का मेला देखने निकल पड़े। पुरानी कोतवाली चौक में लगने वाला यह मेला वर्षों से लगता है। पूरे देश में फैले कोरोना के संक्रमण के कारण 2 वर्ष रावण का पुतला दहन कार्यक्रम नहीं हुआ। 2 वर्ष बाद शुरू हुए इस पुतला दहन को लेकर लोगों में काफी उत्साह था।

आजमगढ़ जिले की प्रसिद्ध चोटहिया जलेबी बनाता दुकानदार।
आजमगढ़ जिले की प्रसिद्ध चोटहिया जलेबी बनाता दुकानदार।

मेले में चटोहिया जलेबी की धूम
दशहरे के मेले में आजमगढ़ जिले की चटोहिया जलेबी काफी मशहूर है। गुड से बनने वाली इस जलेबी की जिले में बड़ी संख्या में दुकानें लगती हैं। और सबसे खास बात यह है कि आम दिनों में चीनी की ही जलेबी बाजार में उपलब्ध रहती है। पर विजय दशमी के त्योहार पर चटोहिया जलेबी की काफी धूम रहती है। यही कारण है कि जो भी लोग मेले में घूमने आते हैं वह इस जलेबी का स्वाद जरूर लेते हैं। वहीं स्थानीय लोग इस जलेबी के पीछे यह तर्क देते हैं कि चीनी नुकसान करती है पर गुड़ फायदा करता है। और यह जलेबी दशहरे में ही बनाई जाती है, इसलिए लोगों को इसका इंतजार रहता है।

खबरें और भी हैं...