पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

आजमगढ़ में दम तोड़ रही रानी लक्ष्मी बाई सम्मान योजना:दो वर्षों से रेप पीड़िताओं को नहीं मिला सम्मान, 66 मामले लंबित

आजमगढ़6 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
आजमगढ़ जिले में प्रदेश सरकार की महात्वाकांक्षी योजना रानी लक्ष्मीबाई सम्मान योजना में लापरवाही के लिए DM राजेश कुमार ने लिपिक को जारी किया कारण बताओ नोटिस। - Money Bhaskar
आजमगढ़ जिले में प्रदेश सरकार की महात्वाकांक्षी योजना रानी लक्ष्मीबाई सम्मान योजना में लापरवाही के लिए DM राजेश कुमार ने लिपिक को जारी किया कारण बताओ नोटिस।

आजमगढ़ जिले में प्रदेश सरकार की रानी लक्ष्मी बाई सम्मान योजना दम तोड़ती नजर आ रही है। इस योजना के तहत रेप पीड़िताओं को सरकारी मदद दी जाती है। प्रदेश के CM योगी आदित्यनाथ भले ही पीड़िताओं को 48 घंटे में लाभ देने की बात करते हैं पर दो वर्ष बीत जाने के बाद भी यहां पीड़िताओं को अभी तक लाभ नहीं मिल पाया। इससे जिले में इस योजना की हकीकत को समझा जा सकता है।

66 प्रकरण लंबित
जिले में रानी लक्ष्मी बाई महिला सम्मान की पात्र 66 पीड़िताएं हैं। 7 अगस्त 2019 से 27 मार्च 2021 तक 66 प्रकरण लंबित हैं। रेप पीड़िताओं ने जब इस बात की शिकायत की तो मामले की जांच कराई गई। 10 लाभार्थियों को शासन द्वारा भुगतान किया गया है, जबकि पीड़िता का भुगतान अभी तक नहीं हुआ है। जांच में यह बातें सत्य पाई गई। जिले के DM राजेश कुमार ने पटल सहायक लिपिक के विरूद्ध तीन दिनों में स्पष्टीकरण देने का निर्देश दिया है, जिसके बाद शासन को रिपोर्ट भेजी जाएगी। DM राजेश कुमार ने सवाल करते हुए कहा कि यदि मामले में गंभीरता बरती गई होती तो लगातार पीड़िता के आईजीआरएस पोर्टल पर प्रार्थना पत्र न पड़ते। इसके साथ ही इन सभी प्रार्थना पत्रों को जिला प्रोबेशन अधिकारी द्वारा पीएफएमएस के तहत शासन द्वारा भुगतान किये जाने की रिपोर्ट लगा कर निस्तारित कराया गया।

बैंक खाते को बताया कारण
मामले के संज्ञान में आने के बाद DM राजेश कुमार ने जिला प्रोबेशन अधिकारी बीएल यादव से जब इस बारे में जानकारी चाही तो उन्होंने पीड़िताओं के बैंक खातों में गड़बड़ी का हवाला दिया। जिसके कारण अभी तक भुगतान नहीं हो सकता है। पर जिल तरह से दो वर्ष बीत जाने के बाद भी जिला प्रोबेशन अधिकारी द्वारा पीड़िता के बैंक खाते को सही नहीं कराया जा सका उससे समझा जा सकता है कि मुख्यमंत्री की इस महात्वाकांक्षी योजना में किस तरह से घोर लापरवाही बरती जा रही है।

खबरें और भी हैं...