पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Market Watch
  • SENSEX59655.56-0.74 %
  • NIFTY17831.3-0.6 %
  • GOLD(MCX 10 GM)480700.26 %
  • SILVER(MCX 1 KG)633193.1 %

आजमगढ़...सिमी के सदस्य का पासपोर्ट बनाने पर LIU पर कार्रवाई:SP ने मुख्य आरक्षी को जांच में पाया दोषी, एक साल तक दिया जाएगा न्यूनतम वेतन

आजमगढ़2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
आजमगढ़ जिले के निजामाबाद के खुदादापुर के रहने वाले सिमी सदस्य फैज के पासपोर्ट मामले में LIU के मुख्य आरक्षी पर हुई कार्रवाई। - Money Bhaskar
आजमगढ़ जिले के निजामाबाद के खुदादापुर के रहने वाले सिमी सदस्य फैज के पासपोर्ट मामले में LIU के मुख्य आरक्षी पर हुई कार्रवाई।

आजमगढ़ के रहने वाले सिमी के सक्रिय सदस्य मोहम्मद फैज को 27 जनवरी 2019 को वाराणसी के अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डे से खाड़ी देश शारजांह जाते समय पुलिस ने सिमी गिरफ्तार किया था। फैज जिलेे के निजामाबाद थाना क्षेत्र के खुदादादपुर गांव का निवासी है। तथ्य छिपाकर पासपोर्ट बनवाकर वह विदेश जाने की तैयारी में था। उसके खिलाफ लुकआउट नोटिस जारी हुई थी। जिस पर यह सफलता मिल सकी। आरोपी के गलत पासपोर्ट बनवाने के मामले में जिले के SP अनुराग आर्य ने LIU विभाग के मुख्य आरक्षी को दोषी पाते हुए उस पर कार्रवाई की है। SP के देर रात यह आदेश के बाद अब आरक्षी को एक साल तक न्यूनतम वेतन ही दिया जाएगा।

मुकदमे के बाद भी बना पासपोर्ट

जिले के SP अनुराग आर्य ने बताया कि LIU विभाग का मुख्य आरक्षी संपूर्णानंद मिश्रा है। निजामाबाद थाना क्षेत्र के खुदादादपुर गांव निवासी मो. फैज पुत्र इशरार प्रतिबंधित संगठन सिमी का सक्रिय सदस्य है। उसके खिलाफ निजामाबाद थाने में साल 2001 में राष्ट्र विरोधी गतिविधियों में संलिप्तता सहित अन्य संगीन धाराओं में केस दर्ज है। मामला अभी कोर्ट में विचाराधीन है। बावजूद इसके मो. फैज का पासपोर्ट बना और वह विदेश की यात्रा किया।

ज्यादातर लोग हो चुके रिटायर
SP ने बताया कि मुख्य आरोपी संपूर्णानंद को साल 2018 में निजामाबाद हलके का चार्ज दिया गया। इसी अवधि में मो. फैज ने अपने पासपोर्ट का नवीनीकरण कराया। मामला संज्ञान में आने पर अधिकारियों की तरफ से मो. फैज के खिलाफ लुकआउट नोटिस जारी किया गया। जिसका परिणाम रहा कि 27 जनवरी 2019 को मो. फैज खाड़ी देश शारजहां जाते समय वाराणसी हवाई अड्डे पर गिरफ्तार कर लिया गया। SP ने बताया कि जिस समय का मो. फैज का पासपोर्ट बना है, और वह अपने पासपोर्ट का नवीनीकरण कराकर कई बार विदेशों की सैर कर चुका है। इस बात की गहनता से जांच कराई गई तो पता चला कि जिन-जिन लोगों ने रिपोर्ट लगाई है, उसमें से ज्यादातर लोग रिटायर हो चुके हैं, या फिर दुनिया में नहीं हैं। ऐसे में ड्यूटी में बचे हुए मुख्य आरोपी को दंडित किया गया।

खबरें और भी हैं...