पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Business News
  • Local
  • Uttar pradesh
  • Ayodhya
  • Construction Of Retaining Wall Started For The Protection Of Ram Temple, 13 Out Of 17 Mines Of Raft Completed.Ayodhya. Rammandir. Shree Ramjanmbhoomi Teerth Kshetra Trust. Kameshwar Chaupal

करोड़ों रामभक्तों के लिए खुशखबरी:राममंदिर की सुरक्षा के लिए रिटेनिंग वाल का निर्माण शुरु,राफ्ट के 17 खानों में 13 का काम पूरा

अयोध्याएक वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
अयोध्या में श्रीरामजन्मभूमि पर बन रहे भव्य राममंदिर का माडल - Money Bhaskar
अयोध्या में श्रीरामजन्मभूमि पर बन रहे भव्य राममंदिर का माडल

अयोध्या में राम मंदिर के निर्माण के साथ उसकी सुरक्षा के उपाय भी शुरु हो गए हैंlआगामी बरसात के दौरान सरयू में बाढ़ आने पर पांच एकड़ में बनने वाले राम मंदिर की नींव की सुरक्षा के लिए रिटेनिंग वाल का निर्माण शुरु हो गया हैlयह कार्य पश्चिम दिशा से आरंभ हुआ हैl

अयोध्या के रामजन्मभूमि पर एक हजार साल टिकने वाले भव्य मंदिर की नींव
अयोध्या के रामजन्मभूमि पर एक हजार साल टिकने वाले भव्य मंदिर की नींव

पांच एकड़ में भव्य मंदिर निर्माण का लक्ष्य रखा है

राममंदिर का निर्माण पहले तीन एकड़ में होना थाl दक्षिण भारत के वास्तुविद की राय के बाद श्रीरामजन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट ने पांच एकड़ में भव्य मंदिर निर्माण का लक्ष्य रखा हैl प्रस्तावित मंदिर के नींव के सभी 48 लेयर का काम बड़े की कुशलता के साथ पूरा किया जा चुका हैlट्रस्ट ने एक हजार साल तक टिकने वाले मंदिर का निर्माण करने का संकल्प लिया हैl

छह से नौ माह के अंदर राफ्ट व राम चबूतरा का निर्माण कार्य पूरा करने का लक्ष्य

दीपावली व छठ पूजा के चलते राम मंदिर के राफ्ट का निर्माण भी रुका हुआ था जो 14 नवंबर को दिल्ली में हुई ट्रस्ट की बैठक के बाद कार्तिक पूर्णिमा के पर्व से फिर आरंभ कर दिया गया हैl नींव के 48 लेयर के ऊपर राफ्ट के 17 बनने वाले खानों में 13 का काम पूरा कर लिया गया हैl इस कार्य में लगे इंजीनियरों की कोशिश है कि छह से नौ माह के अंदर राफ्ट व उसके ऊपर 16 फिट ऊंचे बनने वाले राम चबूतरा का निर्माण कार्य पूरा कर लिया जायl

तीन कंपनियों को मंदिर निर्माण के लिए लगने वाले पत्थरों को लाने, तराशने आदि का जिम्मेदारी

टस्ट के सदस्य कामेश्वर चौपाल ने बताया कि राफ्ट व रामचबूतरा का काम पूरा होते ही मंदिर निर्माण के लिए पत्थरों की जरूरत को पूरा करने का काम भी शुरु हो गया हैl ट्रस्ट ने दिल्ली की बैठक के बाद राजस्थान की ही तीन कंपनियों को मंदिर निर्माण के लिए लगने वाले पत्थरों को लाने, तराशने आदि का जिम्मेदारी दे दी हैl पर इसे मंदिर में लगाने का अंतिम निर्णय निर्माण कर रही इंजीनियरिंग कंपनियों टाटा कंसलटेंसी व एलएंडटी पर छोड़ दिया गया हैl इसके लिए अयोध्या में पत्थरों की तराशी के कुछ कार्य ही हो रहे हैंl बाकी का कार्य राजस्थान के उदयपुर, मिर्जापुर व कर्नाटक में चल रहा हैl

खबरें और भी हैं...