पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

अयोध्या में दो दिवसीय आयुर्वेद कुंभ शुरु:ढाई हजार चिकित्सकों ने सुश्रुत संहिता का एक साथ पाठ कर वर्ल्ड बुक ऑफ रिकॉर्ड कीर्तिमान स्थापित किया

अयोध्या6 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
अयोध्या के तुलसीदास योग एवं प्राकृतिक चिकित्सालय में दो दिवसीय आयुर्वेद कुंभ आज से आरंभ  हो गया - Money Bhaskar
अयोध्या के तुलसीदास योग एवं प्राकृतिक चिकित्सालय में दो दिवसीय आयुर्वेद कुंभ आज से आरंभ हो गया

अयोध्या के तुलसीदास योग एवं प्राकृतिक चिकित्सालय में शनिवार को दो दिवसीय आयुर्वेद कुंभ में देश के अनेक प्रांतों से आऐ ढाई हजार युवा चिकित्सकों ने आयुर्वेद के महान ऋषि शल्य चिकित्सा के जनक पितामह आचार्य सुश्रुत द्वारा रचित सुश्रुत संहिता का नियत समय डेढ़ घंटे तक एक स्वर में पाठ कर वर्ल्ड बुक ऑफ रिकॉर्ड का कीर्तिमान स्थापित कियाl

चिकित्सा विशेषज्ञों को सम्मानित करते कार्यक्रम के संरक्षक महंत संजय दास
चिकित्सा विशेषज्ञों को सम्मानित करते कार्यक्रम के संरक्षक महंत संजय दास

महंत संजय दास ने किया उद्घाटन

इससे पहले कुंभ का श्रीगणेश वैदिक मंत्रोच्चार के बीच अखाड़ा परिषद के पूर्व अध्यक्ष महंत ज्ञानदास के उत्तराधिकारी शिष्य व हनुमानगढ़ी के महंत महंत संजय दास ने किया। रामनगरी में पहली बार आयोजित इस समागम में देश के सुविख्यात चिकित्सकों- विशेषज्ञों ने आयुर्वेद पर अपने विचार को साझा कर कार्यक्रम को चार चांद लगा दिया।कीर्तिमान स्थापित होने के बाद लंदन के वर्ल्ड बुक ऑफ रिकॉर्ड की तरफ से आये अतिथि आशीष मिश्रा ने प्रमाण पत्र देकर इस क्षण को ऐतिहासिक बना दियाजिसका साक्षी देश के विभिन्न प्रांतों से आए वैद्य बनेl कार्यक्रम सफल हो जाने के बाद युवा वैद्यो का उत्साह देखते ही बन रहा था। संकटमोचन सेना के कार्यवाहक राष्ट्रीय अध्यक्ष व हनुमानगढ़ी के पुजारी हेमंत दास ने अतिथियों का स्वागत कियाl

कार्यक्रम में मौजूद मंचासीन महंत
कार्यक्रम में मौजूद मंचासीन महंत

प्राचीन समय से ही आयुर्वेद का प्रयोग भारत में हो रहा है

संकट मोचन सेना व जीवन अमृत आयुर्वेद के तत्वाधान में जन- जन तक आयुर्वेद को पहुंचाने के उद्देश्य आयोजित आयुर्वेद महाकुंभ के उद्घाटन अवसर पर अपने आशीर्वचन देते हुए हुए डॉक्टर महेश दास ने कहां की प्राचीन समय से ही आयुर्वेद का प्रयोग भारत में हो रहा है जिसका लोहा आज पूरा विश्व मान रहा हैl उन्होंने त्रेता युग का उल्लेख करते हुए कहा कि जब भगवान लक्ष्मण युद्ध में मूर्छित हुए तब सुषेण वैद्य की सलाह पर हनुमान जी संजीवनी बूटी लाकर लक्ष्मण जी के प्राण बचाए थेl वर्तमान परिवेश कोविड-19 का उदाहरण देते हुए कहा कि देश के लाखों लोगों ने आयुर्वेद पद्धति को अपनाकर अपने और अपने परिजनों के प्राणों की रक्षा कियाl इसी आयुर्वेद को जन जन तक पहुंचाने के लक्ष्य से इस कार्यक्रम का आयोजन किया गया हैl इस आयोजन की सार्थकता तभी है जब हम भारत की प्राचीन आयुर्वेदिक पद्धति को अपनाकर स्वस्थ जीवन को व्यतीत करेंl उद्घाटन सत्र को तीनों अखाड़ों के पूर्व प्रधानमंत्री महंत माधव दास,जगदगुरु रामदिनेशाचार्य ,महंत बलराम दासए केदारनाथ मिश्रा ,महंत दिलीप दास,रामायणी सरोज दास,अंकित दास,रामशरण दास ,रामदासए मुकेश दास ,लवकुश दास अभय दास आदि संतों ने आयुर्वेद पर विस्तृत चर्चा कीl

चिकित्सा कुंभ में दवाओं व पुस्तकों का स्टाल भी लगाl वामन मंदिर के महंत वैदेहीवल्लभ शरण व बधाई भवन के महंत राजीवलोचन शरण ने पुस्तकों की जानकारी ली
चिकित्सा कुंभ में दवाओं व पुस्तकों का स्टाल भी लगाl वामन मंदिर के महंत वैदेहीवल्लभ शरण व बधाई भवन के महंत राजीवलोचन शरण ने पुस्तकों की जानकारी ली

यह गौरव की बात है कि राम नगरी में इस कार्यक्रम का आयोजन

इस अवसर पर गुरु और शिष्य परंपरा को अक्षुण बना देश भर से आये वरिष्ठ विशेषज्ञ यामिनी भूषण तिवारी,डॉ डीपी आर्य,अभिजीत सर, वैद्य तपन कुमार,प्रवीण जोशी,नरेंद्र गुजराती,अनुज जैन,अभय नारायण मिश्रा,इंद्रासन प्रजापति ,सतीश चंद्र मिश्रा ,को अंग वस्त्र भगवान धन्वंतरी और श्रीफल देकर सम्मानित मंचासीन संत महंतों ने किया। अपने सम्मान से भाव विभोर हु विशेषज्ञों ने कहा कि यह गौरव की बात है कि राम नगरी में इस कार्यक्रम का आयोजन किया जा रहा है जिस म हम अपने आप को सौभाग्यशाली मान रहे हैंl

पहली बार अयोध्या में आयुर्वेदिक कुंभ का आयोजन

यूपी के इतिहास में पहली बार अयोध्या में आयुर्वेदिक कुंभ का आयोजन किया गया है।वासुदेवघाट स्थित तुलसीदास योग एवं चिकित्सालय परिसर में 27 और 28 नवंबर को होने वाले इस कुंभ में 2500 आयुर्वेद डॉक्टर शामिल हैं। 50 विशेषज्ञ अपनी विधा से लोगों में गंभीर बीमारियों का इलाज कर रहे हैं।

वर्ल्ड ऑफ रिकार्ड लंदन के पर्यवेक्षक "गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड" लंदन से आशीष मिश्रा पहुंचे

इसका उदघाटन हनुमानगढ़ी के महंत संजय दास व संकटमोचन सेना ने कार्यवाहक अध्यक्ष पुजारी हेमंत दास ने संयुक्त रूप से कियाl इस अवसर पर कई महंतों की मौजूदगी रहीl कुंभ में सुश्रुत संहिता का अद्वितीय पाठ शुरु होने जा रहा है जो वर्ल्ड बुक ऑफ रिकार्ड का कीर्तिमान स्थापित होगाl वर्ल्ड ऑफ रिकार्ड लंदन के पर्यवेक्षक "गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड" लंदन से आशीष मिश्रा पहुंच गए हैंl

आयुर्वेद कुंभ में पहुंचे देश के दो हजार युवा चिकित्सक
आयुर्वेद कुंभ में पहुंचे देश के दो हजार युवा चिकित्सक

अयोध्या पहुंचे कई ख्यातिप्राप्त विशेषज्ञ

कार्यक्रम के संरक्षक और हनुमानगढ़ी के महंत संजय दास ने बताया कि कार्यक्रम के लिए देश के प्रमुख आयुर्वेद चिकित्सकों में महाराष्ट्र के पूर्व निदेशक आयुर्वेद अनंत बी धर्माधिकारी, राजस्थान आयुर्वेद विश्विवद्यालय के पूर्व कुलपति प्रोफेसर बनवारी लाल गौड़, राष्ट्रीय आयुर्वेद विद्यापीठ के नरेंद्र गुजराथी व रामदास अहवाड, जाने -माने पंचकर्म विशेषज्ञ प्रवीण जोशी व तपन कुमार कुंभ में सेवाएं देने के लिए पहुंच चुके हैंl

सुश्रुत संहिता का एक साथ 2000 आयुर्वेद डॉक्टर पाठ करके रिकॉर्ड बनाएंगे

तुलसीदास योग एवं प्राकृतिक चिकित्सालय में एक छत के नीचे देश के बड़े आयुर्वेद डॉक्टर इकट्ठे होंगे। इसमें सुश्रुत संहिता का एक साथ 2000 आयुर्वेद डॉक्टर पाठ करके रिकॉर्ड बनाएंगे।आचार्य को आधुनिक चिकित्सा विज्ञान में फादर ऑफ सर्जरी कहा जाता है।हनुमानगढ़ी के महंत संजय दास ने बताया कि 28 नवंबर को फ्री आयुर्वेद चिकित्सा शिविर लगाया जाएगा। जिसके फर्स्ट सेशन में देश के 50 आयुर्वेद विशेषज्ञ अपनी सेवाएं देंगे।

कार्यक्रम के संरक्षक और हनुमानगढ़ी के महंत संजय दास ने बताया कि अयोध्या सहित प्रदेश में पहली बार ऐसा आयोजन किया जा रहा है
कार्यक्रम के संरक्षक और हनुमानगढ़ी के महंत संजय दास ने बताया कि अयोध्या सहित प्रदेश में पहली बार ऐसा आयोजन किया जा रहा है

28 नवंबर को लगेगा आयुर्वेद चिकित्सा शिविर

कार्यक्रम के संरक्षक और हनुमानगढ़ी के महंत संजय दास ने बताया कि 28 नवंबर को फ्री आयुर्वेद चिकित्सा शिविर लगाया जाएगा। जिसके फर्स्ट सेशन में देश के 50 आयुर्वेद विशेषज्ञ अपनी सेवाएं देंगे। इसके बाद महर्षि सुश्रुत की रथ यात्रा निकाली जाएगी। साथ ही भगवान श्री धन्वंतरि की सरयू तट पर भव्य महाआरती होगी। इसके अलावा अन्य कार्यक्रम भी होंगे। जिनके बारे में वेबसाइट www.ayurvedakumbh.com पर देखा जा सकता है।

महंत ज्ञानदास के आशीर्वाद से हो रहा आयोजन

कार्यक्रम के अध्यक्ष वैद्य अभय नारायण मिश्र (निदेशक जीवन अमृत) ने बताया कि अयोध्या में राम है। तो राम का ज्ञान कराने वाला ग्रंथ रामचरित मानस भी है। यह परंपरा है हमारे गुरु और ग्रंथ की। यही गुरु-शिष्य परंपरा आयुर्वेद शास्त्र में चली आ रही है।उन्होंने कहा कि अयोध्या में पहली बार ऐसा आयोजन होने जा रहा है। अब वह दिन दूर नहीं, जब पूरे यूपी के लोग आसान तरीके से आयुर्वेद से इलाज करा सकेंगे।

खबरें और भी हैं...