पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

औरैया में लेखपाल पर आरोप:ग्रामीणों ने लगाया धन उगाही करने का आरोप, एसडीएम के सामने रखी लेखपाल को हटाने की मांग

औरैया2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
एसडीएम को ज्ञापन सौंपते हुए ग्राम रूपपुर के ग्रामीण। - Money Bhaskar
एसडीएम को ज्ञापन सौंपते हुए ग्राम रूपपुर के ग्रामीण।

विकासखंड सहार क्षेत्र के ग्राम रूपपुर के ग्रामीणों ने क्षेत्रीय लेखपाल पर कार्यों के बदले धनउगाही का आरोप लगाया है। ग्रामीणों ने इस बाबत लेखपाल को पद से हटाए जाने व उनके खिलाफ उचित कार्रवाई करने की मांग की है। ग्रामीणों ने बिधूना के एसडीएम को ज्ञापन सौंपकर मामले से अवगत करवाया है।

लेखपाल पर मनमर्जी करने का आरोप
एसडीएम को सौंपे ज्ञापन में कहा गया है कि उक्त लेखपाल द्वारा रूपपुर सहार मौजा में कृषि आवंटन के नाम पर धन एकत्र किया जा रहा है। क्षेत्रीय लेखपाल ने प्रधान द्वारा चिह्नित जगह पर पानी की टंकी बनवाने के लिए कहा कि यह ढाक की सुरक्षित जगह है, जबकि उसी जगह पर गांव के ही रामबाबू को पट्टा के आधार पर कब्जा दिला दिया। इसके अलावा लेखपाल ने अपनी मर्जी से टंकी बनवाने के लिए प्रस्ताव भेजा है। ऐसा होना भूमि प्रबंधन समिति के खिलाफ है।

संक्रमणीय काश्तकारों को किया जा रहा परेशान
आरोप है कि लेखपाल ग्रामीणों को धमका कर बेघर कर देने को कहता है। इसी के चलते वह ग्रामीणों से पैसा मांग रहा है। लेखपाल ने गांव के ही अकबर व सलीम की गलत पैमाइश करके रघुपति के संक्रमणीय खेत के नाम कर दी। इसी तरह गलत पैमाइश करके संक्रमणीय काश्तकारों को परेशान किया जा रहा है। राम औतार शर्मा के असंक्रमणीय से संक्रमणीय कराने के लिए 20 हजार की मांग की जा रही है। पीड़ित उपरोक्त धनराशि देने में असमर्थ होने के कारण भूमि संक्रमणीय में दर्ज नहीं हो पा रही है। शासनादेश है कि विरासत मृतक की तत्काल जांच की जाए, लेकिन लेखपाल ने अभी तक गांव के 2 लोगों की जांच नहीं की है, जबकि उनका निधन हुए 2 वर्ष बीत चुके हैं। ना ही उनकी विरासत दर्ज की गई है, इसके अलावा अन्य विरासतें भी लंबित हैं।

कार्रवाई नहीं हुई तो करेंगे धरना-प्रदर्शन
ग्रामीणों ने उपरोक्त लेखपाल को तत्काल प्रभाव से हटाए जाने की मांग उठाई है। इसके साथ ही उन्होंने कहा है कि लेखपाल के खिलाफ कानूनी कार्रवाई की जाए। कहा कि एक सप्ताह में कार्रवाई नहीं की गई और उन्हें न्याय नहीं मिला तो वह लोग तहसील में शांतिपूर्वक धरना प्रदर्शन करने के लिए बाध्य होंगे। प्रार्थना पत्र देने वालों में प्रमुख रूप से बृजभान सिंह, राज किशोर, सुरेश चंद्र, मांगेलाल, वीरेंद्र सिंह, धीरेंद्र सिंह, मनीष सिंह, महेंद्र सिंह, लाखन सिंह, गौरव सिंह, विक्रम सिंह, राजवीर व समीर समेत कई ग्रामीण शामिल रहे।

खबरें और भी हैं...