पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

स्मृति ईरानी की अमेठी में सड़क पर सियासत:सड़क के निर्माण के लिए सपा विधायक करा रहे थे श्रमदान, पुलिस ने किया गिरफ्तार

अमेठी6 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
श्रम दान करा रहे सपा विधायक राकेश सिंह को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया। - Money Bhaskar
श्रम दान करा रहे सपा विधायक राकेश सिंह को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया।

केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी की अमेठी में सड़क पर सियासत तेज हो गई है। गुरुवार को सड़क निर्माण के लिए पूर्व विधायक राकेश सिंह ने समर्थकों के साथ श्रमदान शुरू कराया। सड़क पर गिट्टी-रोलर चलाकर लोग सड़क का निर्माण कर रहे थे। मामले की सूचना पर पुलिस ने उन्हें गिरफ्तार कर लिया। मौके पर एडीएम और एएसपी समेत कई थानों की पुलिस मौजूद है। गिरफ्तारी के दौरान तनाव को देखते हुए भारी संख्या में पुलिस बल तैनात कर दिया गया है।

दरअसल, मामला गौरीगंज विधानसभा क्षेत्र के मुसाफिरखाना तहसील क्षेत्र के कादूनाला-थौरी संपर्क मार्ग का है। मंगलवार को पूर्व सीएम अखिलेश यादव के कहने पर सपा विधायक राकेश सिंह ने अनशन खत्म कर दिया। गुरुवार को विधायक राकेश सिंह के माजूदगी में उनके समर्थक श्रमदान करने पहुंच गए।

सड़क निर्माण के विधायक श्रमदान करा रहे थे।
सड़क निर्माण के विधायक श्रमदान करा रहे थे।

ऐसे मामले ने पकड़ा तूल

बता दें कि गौरीगंज विधानसभा क्षेत्र के अंतर्गत मुसाफिरखाना तहसील आती है। तहसील अंतर्गत कादूनाला-थौरी मार्ग (9.15 किलोमीटर) व मुसाफिरखाना-पारा मार्ग (5.650 किलोमीटर) अति जर्जर हालत में है। इन दोनों सड़कों को दुरुस्त कराने के लिए विधायक ने 2 अक्तूबर को डीएम अरुण कुमार को ज्ञापन दिया था। उन्होंने कहा था कि 31 अक्टूबर को सुबह 11 बजे तक दोनों जर्जर सड़कों के पुर्ननिर्माण का कार्य शुरू नहीं हुआ तो वो पद से इस्तीफा देंगे।

सड़क पर टैंकर से पानी का छिड़काव किया जा रहा है।
सड़क पर टैंकर से पानी का छिड़काव किया जा रहा है।

विधानसभा सदस्य पद से दिया इस्तीफा

प्रशासन ने घोर लापरवाही बरती पुर्ननिर्माण नहीं कराया, नतीजतन विधायक ने लखनऊ में विधानसभा अध्यक्ष हृदय नारायण दीक्षित से मिलकर उन्हें अपना इस्तीफा सौंप दिया था। इस्तीफा देने के बाद विधायक समर्थकों के साथ जीपीओ पहुंचे थे और सरकार की कार्यप्रणाली के खिलाफ धरना और बाद में आमरण अनशन शुरू कर दिया था।

कादूनाला-थौरी मार्ग (9.15 किलोमीटर) व मुसाफिरखाना-पारा मार्ग (5.650 किलोमीटर) अति जर्जर हालत में है।
कादूनाला-थौरी मार्ग (9.15 किलोमीटर) व मुसाफिरखाना-पारा मार्ग (5.650 किलोमीटर) अति जर्जर हालत में है।

अखिलरेश ने अनशन खत्म करने की अपील की थी

उधर, मंगलवार को पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव का एक वीडियो राकेश सिंह ने शेयर किया था। जिसमें अखिलेश यादव ने अपने विधायक से कहा कि हमारी अपील है कि जो सरकार बहरी हो और अंधी भी हो गई हो उसके खिलाफ क्यों लड़ते हो। अखिलेश ने आगे कहा कि वो भी भूख हड़ताल पर बैठे हो। आप छोड़िए धरना स्वस्थ्य होइए और स्वस्थ्य होकर सरकार के खिलाफ लड़ने की तैयारी कीजिए। हमारे ओपॉजिशन के लीडर जाएंगे और भूख हड़ताल खत्म कराएंगे। इसके बाद पार्टी के बड़े नेताओं ने जाकर विधायक का अनशन खत्म कराया था।

सपा विधायक राकेश सिंह ने बताया कि वह परसों तक अनशन पर थे। राष्ट्रीय अध्यक्ष के कहने पर उन्होंने अनशन तोड़ा।
सपा विधायक राकेश सिंह ने बताया कि वह परसों तक अनशन पर थे। राष्ट्रीय अध्यक्ष के कहने पर उन्होंने अनशन तोड़ा।

सात दिन किया आमरण अनशन

सपा विधायक राकेश सिंह ने बताया कि वह परसों तक अनशन पर थे। राष्ट्रीय अध्यक्ष के कहने पर उन्होंने अनशन तोड़ा। हम जनसहभागिता से चंदा लगाकर, पेंशन देकर, परिवार का गहना बेचकर, जो मशीनरी और गिट्टी लगेगी उसको ले आएंगे। तीन साल तक सड़क से लेकर सदन तक, अधिकारी से लेकर मंत्री तक मैंने हर जगह प्रयास किया। अंत में विधायकी से त्यागपत्र दे दिया। सात दिन आमरण अनशन पर रहा, लेकिन सरकार में बैठे अधिकारियों के कान पर जूं तक नही रेंगी।