पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

एथलीट सुधा सिंह के घर पहुंचीं स्मृति ईरानी:कहा- वर्षों तक VIP के नाम से जानी गई अमेठी, पहली बार गरीब परिवार की बेटी को मिला पद्मश्री पुरस्कार

अमेठी6 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
एथलीट सुधा सिंह के घर पहुंचीं स्मृति ईरानी। - Money Bhaskar
एथलीट सुधा सिंह के घर पहुंचीं स्मृति ईरानी।

यूपी चुनाव में महिला वोटरों को कांग्रेस के पाले में लाने के लिए कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने पखवारे भर पूर्व एक नारा दिया था कि, ‘लड़की हूं लड़ सकती हूं’। आज केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी ने जब अमेठी पहुंचीं तो शाम होते-होते इंटर नेशनल एथलीट प्लेयर पद्मश्री पुरस्कार पाने वाली सुधा सिंह के घर पहुंचीं। यहां स्मृति ईरानी ने इशारे-इशारे में बड़ा बयान भी दे डाला।

उन्होंने कहा कि अमेठी वर्षों तक जानी गई वीआईपी के नाम से, लेकिन आज मैं अमेठी के एक-एक नागरिक की ओर से प्रधानमंत्री को आभार व्यक्त करती हूं कि अमेठी के इतिहास में पहली बार एक गरीब परिवार की बेटी को पद्मश्री पुरस्कार देकर के अमेठी में इतिहास बनाया है।

स्मृति ने कहा- अमेठी की शान हैं सुधा

वहीं मीडिया से बातचीत में स्मृति ईरानी ने कहा कि राष्ट्र के सर्वोच्च सम्मान में से एक पद्मश्री पुरस्कार अमेठी की एक बेटी को मिला है। हम सब जानते हैं कि सुधा न सिर्फ अमेठी बल्कि देश भर की बेटियों के लिए एक बहुत बड़ा उदाहरण बनकर के उभरी हैं। हम अभिलाषी हैं कि सुधा यूं ही सबकी प्रेणना बनकर रहें। स्मृति ने कहा कि अमेठी की शान हैं सुधा, देश का अभिमान हैं सुधा। मैं यहां इनके माता-पिता और कोच का आभार व्यक्त करने आई थी। इनके योगदान से सुधा इस मुकाम पर पहुंची हैं।

जिला पंचायत अध्यक्ष ने कहा- एकेडमी बनवाऊंगा

वहीं केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी के साथ सुधा के घर पहुंचे जिला पंचायत अध्यक्ष राजेश मसाला व उनकी पत्नी चंद्रमा देवी ने सुधा सिंह को दो लाख का चेक भी दिया। उन्होंने बताया कि सुधा सिंह की इच्छा है कि यहां एक एकेडमी बनाई जाए। डीएम और सीडीओ के साथ मीटिंग हुई है। स्मृति ईरानी ने मुझे प्रेरित किया। मैं वादा कर रहा हूं कि एकेडमी बनवाऊंगा।

खबरें और भी हैं...