पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Market Watch
  • SENSEX59711-0.65 %
  • NIFTY17855.65-0.46 %
  • GOLD(MCX 10 GM)480700.26 %
  • SILVER(MCX 1 KG)633193.1 %

अमेठी में 26 पंचायत सचिवों का वेतन रोका:ब्लॉकों में अपूर्ण पाए गए पीएम आवास, CDO के आदेश पर रोका गया वेतन

अमेठी2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
अमेठी में 26 पंचायत सचिवों का वेतन रोका। - Money Bhaskar
अमेठी में 26 पंचायत सचिवों का वेतन रोका।

अमेठी जिले की मुख्य विकास अधिकारी के निर्देश पर परियोजना निदेशक जिला ग्रामीण विकास अभिकरण ने 26 ग्राम पंचायतों में तैनात पंचायत सचिवों का वेतन रोक दिया है। सीडीओ के अनुसार ग्राम पंचायत वार प्रधानमंत्री आवास योजना ग्रामीण वर्ष 2021-22 में प्राप्त लक्ष्य के सापेक्ष पूर्ण आवासों की समीक्षा की गई थी। समीक्षा में प्रति विकासखंड दो ऐसी ग्राम पंचायत जहां लक्ष्य के सापेक्ष सर्वाधिक आवास अपूर्ण पाए गए थे।

ऐसे में पंचायत सचिव का वेतन परियोजना निदेशक जिला ग्रामीण विकास अभिकरण को अग्रिम आदेशों तक रोके जाने के लिए निर्देशित किया गया था। जिस के क्रम में जनपद के 26 ग्राम पंचायतों में तैनात पंचायत सचिवों का वेतन इस निर्देश के साथ रोक दिया गया था कि अभिलंब अपेक्षित प्रगति में सुधार लाएं तत्पश्चात अग्रसर कार्यवाही की जाएगी।

अधिकारियों ने जताई थी नाराजगी

विकासखंड मुसाफिरखाना की ग्राम पंचायत नाराअढनपुर में एक भी आवास पूर्ण न होने पर अधिकारियों ने आक्रोश व्यक्त किया था। तत्पश्चात परियोजना निदेशक जिला ग्रामीण विकास अभिकरण अमेठी को ग्राम पंचायत में तैनात पंचायत सचिव श्रीचंद्र सिंह ततवाल को तत्काल प्रभाव से निलंबित करने के लिए जिला पंचायत राज अधिकारी को संस्तुती पत्र प्रेषित करने के निर्देश दिए गए थे। कार्यवाही के अनुक्रम में दिनांक 15 नवंबर 2021 से 27 नवंबर के मध्य कुल 4,835 आवास पूर्ण हुए हैं। पूर्णता में जनपद की रैंक राज्य स्तर पर 10 अच्छे जनपदों में प्रदर्शित हो रही है।

जल्द पूरा कराएं काम

प्रधानमंत्री आवास योजना ग्रामीण 2021-22 के तहत अब तक कुल 96% लाभार्थियों को प्रथम किस्त, 86% लाभार्थियों को द्वितीय किस्त एवं 56% लाभार्थियों के आवासों को पूर्ण स्तर पर जियो टैग कराते हुए मनरेगा से औसतन 54 दिवस का रोजगार उपलब्ध करा दिया गया है। मुख्य विकास अधिकारी द्वारा निर्देशित किया गया है कि अभिलंब अवशेष प्रथम किस्त, द्वितीय तृतीय किस्त एवं अपूर्ण आवासों को पूर्ण कराते हुए मनरेगा से 90 दिवस का औसतन रोजगार उपलब्ध कराना सुनिश्चित करें।