पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

10 दिनों बाद भी नहीं बदला गया खराब ट्रांसफार्मर:अंधेरे में रहने को मजबूर हैं सैकड़ों ग्रामीण, विरोध प्रदर्शन भी किया

अमेठी जिला2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

एक तरफ जहां प्रदेश की भाजपा सरकार शहरों को 24 घंटे और ग्रामीण इलाके में भी 18 घंटे बिजली देने का दावा कर रही है। वहीं दूसरी तरफ अमेठी के संग्रामपुर ब्लाक स्थित जिरहा फीडर के पूरे घिसियावन पांडेय का पुरवा बेलखरी में बीते 10 दिनों से ट्रांसफार्मर जलने से सैकड़ों की संख्या में लोग अंधेरे में रहने को मजबूर हैं।

आज गुस्साए ग्रामीणों ने विद्युत विभाग पर आक्रोश व्यक्त करते हुए गांव में प्रदर्शन किया है। साथ ही जिला प्रशासन से जल्द से जल्द नए ट्रांसफार्मर लगवाए जाने की मांग भी की है। अमेठी जिले में विद्युत विभाग के कर्मचारी अपनी मांगों को लेकर कई दिनों से लगातार धरने पर चल रहे हैं। जिससे जिले में विद्युत व्यवस्था चरमरा गई है।

विभाग पर लापरवाही बरतने का आरोप

विद्युत व्यवस्था खराब होने के चलते लोग अंधेरे में रहने को मजबूर हैं। वहीं जिला प्रशासन द्वारा भी चरमराई विद्युत व्यवस्था को ठीक कराने के लिए कोई ठोस कदम नहीं उठाया जा रहा है। जिससे विद्युत आपूर्ति ठप होने से लोग परेशान हैं। धरना प्रदर्शन करने पर उतारू हो चुके हैं। एक तरफ जहां शनिवार को किसान नेत्री रीता सिंह द्वारा जिले पर चरमराई विद्युत व्यवस्था को लेकर किसानों के साथ विद्युत विभाग के ऑफिस में प्रदर्शन किया गया।

10 दिनों से खराब पड़ा है ट्रांसफार्मर

वहीं रविवार को संग्रामपुर विकास खण्ड के जिरहा फीडर के अंतर्गत घिसियावन पांडेय का पुरवा बेलखरी में एक दर्जन से अधिक ग्रामीणों ने ट्रांसफार्मर के सामने खड़े होकर प्रदर्शन करते हुए 10 दिनों से खराब विद्युत व्यवस्था पर सवाल खड़े किया। ग्रामीणों ने जिला प्रशासन से जल्द से जल्द नए ट्रांसफार्मर लगवाने की मांग की। ग्रामीण कर्मराज पांडेय व सुनील कुमार मिश्र सहित आदि ग्रामीणों का कहना है कि उनके गांव का ट्रांसफार्मर बीते 10 दिनों से खराब होने से गांव में विद्युत आपूर्ति पूरी तरह से ठप है।

ग्रामीणों ने ये आरोप लगाया

लोग अंधेरे में रहने को मजबूर है गांव के नल खराब होने से समरसेबल मोटर भी विद्युत आपूर्ति ठप होने से नहीं चल रहे हैं। जिससे लोगों को पीने के पानी की व्यवस्था करने के लिए भी समस्या का सामना करना पड़ रहा है। परीक्षाएं भी नजदीक आ रही हैं और विद्युत आपूर्ति ठप होने से बच्चों की पढ़ाई भी बाधित हो रही है। गांव में चारों तरफ अंधेरा रहने से चोरी आदि घटनाएं भी होने की आशंका है। बिजली विभाग के कर्मचारियों से लेकर जिले के अधिकारियों से भी पत्र देकर ट्रांसफार्मर बदलवाने की मांग की गई। लेकिन, विद्युत विभाग के कर्मचारियों के धरना प्रदर्शन के चलते 10 दिन बीत जाने के बाद भी गांव का ट्रांसफॉर्मर बदला नहीं गया है। जिससे वह लोग काफी परेशान है। अगर जल्दी ही समस्या का समाधान नहीं हुआ तो सभी ग्रामीण इकट्ठा होकर जिला स्तर पर धरना प्रदर्शन करेंगे।

खबरें और भी हैं...