पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

मां के दर्शन मात्र से होती हैं हर मुरादें पूरी:अमेठी के कलिकन धाम में बुद्ध पूर्णिमा के अवसर पर लगा श्रद्धालुओं का तांता, चला भण्डारों का दौर

अमेठी तहसीलएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
मां कालिकन देवी का स्वरूप। - Money Bhaskar
मां कालिकन देवी का स्वरूप।

अमेठी में बुद्ध पूणिमा के पर्व पर देवी आराधना के लिए श्रद्धालुओं की भीड़ माँ के दर्शन करने के लिए उमड़ पड़ी। आज कलिकन धाम मन्दिर में माँ कालिकन के दर्शन व पूजा अर्चना के लिए आज लोगों की सुबह से ही भक्तों का तांता लगा रहा। वहीं माँ के गर्भ गृह की सजावट कालिकन भवानी देवी की श्रद्धालुओं पर आभा बिखेर रही थी। भक्त भक्ति में सराबोर दिखाई दिए और माइया के आराधना में लीन रहे।

मंदिर में उमड़ी भीड़।
मंदिर में उमड़ी भीड़।

वहीं माँ के दर्शन के के लिए भक्तों की लम्बी कतार देखने को मिली। देवी माँ को माला, फूल,लाईची दाना, लड्डू, पेडा, नारियल, चुनरी चढ़ाते हैं और माँ से आशीर्वाद लेते हैं। भक्तों की मन्नत पूरी होने पर भक्तगण माँ को नारियल की बलि देकर पूजा, अर्चना, के बाद कपूर जलाकर अपनी पूजा पूर्ण करते हैं।

मान्यता है कि महिलाएं माँ की आरती कर पूजा अर्चना कर कालिकन भवानी मंदिर के तीन फेरे लगाकर सच्चे मन से जो भी मन्नत मानती हैं, उनको माँ पूरा करती है। वही नौ ग्रह के साथ-साथ सूर्य, च्यवन ऋषि, सुकन्या के दर्शन करने कभी भी समस्या पास नहीं आती है। इस मौके पर विशाल भण्डारे का आयोजन किया गया और महा प्रसाद बांटा गया।

खबरें और भी हैं...